बदसूरत अतीत से बचने के लिए इतिहास को गलत साबित करना भाजपा-संघ का एजेंडा : सुरजेवाला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 12, 2022   08:57
बदसूरत  अतीत से बचने के लिए इतिहास को गलत साबित करना भाजपा-संघ का एजेंडा : सुरजेवाला
प्रतिरूप फोटो
ANI Twitter.

सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि देश के स्वतंत्रता आंदोलन का विकृत इतिहास हरियाणा के स्कूलों में पढ़ाया जा रहा है और यह भाजपा-आरएसएस का एजेंडा रहा है कि वे अपने बदसूरत अतीत से खुद को पाक-साफ बताने के लिए पूरे इतिहास को गलत साबित करें।

चंडीगढ़|  कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने बुधवार को मांग की कि हरियाणा सरकार नौवीं कक्षा की इतिहास की उस नई किताब को वापस ले जिसमें 1947 में मुल्क के बंटवारे का एक कारण कांग्रेस की ‘तुष्टिकरण की नीति’ को भी बताया गया है।

सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि देश के स्वतंत्रता आंदोलन का विकृत इतिहास हरियाणा के स्कूलों में पढ़ाया जा रहा है और यह भाजपा-आरएसएस का एजेंडा रहा है कि वे अपने बदसूरत अतीत से खुद को पाक-साफ बताने के लिए पूरे इतिहास को गलत साबित करें।

उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि नई किताब में बदलाव हरियाणा और देश को नफरत और विभाजन की ओर धकेलने की एक और साजिश है। उन्होंने किताब को बिना किसी देरी के वापस लेने की मांग की।

कांग्रेस नेता ने एक बयान में कहा, “मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री को आगे आकर राज्य की जनता से माफी मांगनी चाहिए और वादा करना चाहिए कि भविष्य में वे कभी भी धोखाधड़ी से इतिहास बदलने की हिम्मत नहीं करेंगे।” हरियाणा स्कूल शिक्षा बोर्ड ने वर्तमान शैक्षणिक सत्र से नौवीं कक्षा की इतिहास की पाठ्यपुस्तक में बदलाव किया है और इसमें 1947 में भारत के विभाजन के कई कारण बताए गए हैं जिनमें से एक कांग्रेस की तुष्टिकरण नीति को भी बताया गया है। बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड किए गए किताब के एक खंड के मुताबिक, मुस्लिम लीग ने कांग्रेस के रास्ते में बाधा पैदा करने की नीति अपनाई। दूसरी ओर, कांग्रेस ब्रिटिश सरकार के खिलाफ मुस्लिम लीग का समर्थन चाहती थी। इसने यह भी कहा कि देश के विभाजन के लिए अन्य प्रमुख कारणों में कांग्रेस नेतृत्व का सत्ता के लिए लालच भी एक वजह थी। सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि देश को तोड़ने में अहम भूमिका निभाने वाली मुस्लिम लीग के साथ मिलकर आजादी से पहले सरकार बनाने वालों के राजनीतिक वंशज अब हरियाणा में नौवीं कक्षा के इतिहास के पाठ्यक्रम से खिलवाड़ कर रहे हैं और छात्रों को स्वतंत्रता आंदोलन का विकृत इतिहास पढ़ा रहे हैं।

उन्होंने कहा, “यह स्वतंत्रता संग्राम का घोर अपमान है, और लाखों स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान को नकारने की भाजपा की साजिश है। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस इसे कभी स्वीकार नहीं करेगी।” कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक समेत लाखों स्वतंत्रता सेनानियों को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...