बाबुल सुप्रियो विवाद पर भाजपा ने कहा, जादवपुर यूनिवर्सिटी में सर्जिकल स्ट्राइक की जरूरत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 20, 2019   18:29
बाबुल सुप्रियो विवाद पर भाजपा ने कहा, जादवपुर यूनिवर्सिटी में सर्जिकल स्ट्राइक की जरूरत

सुप्रियो को यादवपुर विश्वविद्यालय में काले झंड़े दिखाए गए और उनके साथ धक्का-मुक्की भी हुई। जगदीप धनखड़ जो विश्वविद्यलाय के कुलाधिपति भी हैं, वह पुलिस के साथ वहां सुप्रियो को बचाने पहुंचे।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि जादवपुर विश्वविद्यालय परिसर राष्ट्रविरोधी तत्वों तथा वामपंथियों का अड्डा बन गया है और “हमारे कैडर” को चाहिए कि उसे नष्ट करने के लिए वहां बालाकोट की तर्ज पर सर्जिकल स्ट्राइक करें। घोष ने आरोप लगाया कि राज्य में तृणमूल सरकार केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो की हत्या होने तक हाथ पर हाथ धरे बैठी रहती और कहा कि वह इस घटना के बारे में केंद्रीय मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर बताएंगे।

घोष ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “यादवपुर विश्वविद्यालय राष्ट्रविरोधी और वामपंथी गतिविधियों का अड्डा है। वहां पहली बार ऐसी घटना नहीं हुई है। जिस तरह हमारे सुरक्षा बलों ने पाकिस्तान में आतंकवादी शिविरों को नष्ट करने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक की, यादवपुर परिसर में राष्ट्रविरोधी अड्डों को नष्ट करने के लिए हमारे कार्यकर्ताओं को उसी तरह की सर्जिकल स्ट्राइक करनी चाहिए।” घोष ने विश्वविद्यालय में सुप्रियो को भीड़ से बचाने के लिए राज्यपाल जगदीप धनखड़ के वहां पहुंचने के फैसले का समर्थन किया।

इसे भी पढ़ें: मारो-पीटो की राजनीति से पता नहीं कब बाहर निकलेगा पश्चिम बंगाल

उन्होंने कहा, “राज्य सरकार चुप बैठी थी और सुप्रियो के मारे जाने का इंतजार कर रही थी।” उन्होंने यादवपुर विश्वविद्यालय में कानून-व्यवस्था की स्थिति नियंत्रण में नहीं रख पाने के चलते वहां के कुलपति सुरंजन दास के तत्काल इस्तीफे की मांग भी की। सुप्रियो को यादवपुर विश्वविद्यालय में काले झंड़े दिखाए गए और उनके साथ धक्का-मुक्की भी हुई। जगदीप धनखड़ जो विश्वविद्यलाय के कुलाधिपति भी हैं, वह पुलिस के साथ वहां सुप्रियो को बचाने पहुंचे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।