भाजपा ने दलितों पर अत्याचार को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, राहुल और प्रियंका से पूछे ये सवाल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 12, 2021   17:01
भाजपा ने दलितों पर अत्याचार को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, राहुल और प्रियंका से पूछे ये सवाल

कांग्रेस शासित राज्यों में दलितों पर अत्याचार को लेकर भाजपा ने राहुल और प्रियंका पर निशाना साधा है। इसी तरह की भावनाएं व्यक्त करते हुए भाजपा महासचिव दुष्यंत गौतम ने आरोप लगाया कि यह कांग्रेस पार्टी ही थी जिसने दलितों के सबसे बड़े नायक बीआर आंबेडकर का अनादर किया और अपने शासन के दौरान उन्हें कभी उचित सम्मान नहीं दिया।

नयी दिल्ली।कांग्रेस शासित राज्यों में दलितों पर हो रहे अत्याचार को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाद्रा की चुप्पी को लेकर उन पर तीखा हमला बोला। राजस्थान, महाराष्ट्र और झारखंड में अनुसूचित जाति (एससी) समुदायों के सदस्यों के खिलाफ अत्याचार की कथित घटनाओं का हवाला देते हुए, भाजपा ने कहा कि जो लोग खुद को दलित अधिकारों के पैरोकार के रूप में पेश करते हैं, वे ऐसी घटनाओं की अनदेखी कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: लालू को जेल तक पहुंचाने वाले IAS अधिकारी अमित खरे को मिली बड़ी जिम्मेदारी, बनाए गए PM मोदी के नए सलाहकार

यहां पार्टी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, “राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाद्रा दोनों खुद को दलित अधिकारों के समर्थक के रूप में पेश करते हैं, लेकिन वे राजस्थान और अन्य राज्यों में अनुसूचित जातियों के खिलाफ अत्याचार पर चुप क्यों हैं? उन्होंने आश्चर्य जताया कि लखीमपुर खीरी में हुई घटना के मद्देनजर उत्तर प्रदेश में “राजनीतिक पर्यटन” पर जाने वाले विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता कांग्रेस शासित राज्यों का दौरा क्यों नहीं करते हैं जब उन राज्यों से दलितों के खिलाफ अत्याचार की घटनाएं सामने आती हैं। इसी तरह की भावनाएं व्यक्त करते हुए भाजपा महासचिव दुष्यंत गौतम ने आरोप लगाया कि यह कांग्रेस पार्टी ही थी जिसने दलितों के सबसे बड़े नायक बीआर आंबेडकर का अनादर किया और अपने शासन के दौरान उन्हें कभी उचित सम्मान नहीं दिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।