संघर्ष में मारे गये RSS कार्यकर्ता के परिवार की देखभाल करेगी भाजपा: प्रह्लाद जोशी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 27, 2021   17:47
संघर्ष में मारे गये RSS कार्यकर्ता के परिवार की देखभाल करेगी भाजपा: प्रह्लाद जोशी

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया की राजनीतिक इकाई सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) के आठ कार्यकर्ताओं को 23 साल के नंदू की हत्या के सिलसिले में 25 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था।

अलप्पुझा। केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने शनिवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) केरल के अलप्पुझा जिले में दो गुटों के बीच हिंसक झड़प में मारे गये राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यकर्ता के परिवार की देखभाल करेगी। साथ ही, उन्होंने राज्य के सत्तारूढ़ वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएएफ) पर निशाना साधते हुए कहा कि यदि उसमें इस मामले की जांच कराने की ‘इच्छा शक्ति’ नहीं है तो वह इसे सीबीआई को सौंप दे। बुधवार को चेरथला के समीप नगमकुलंगारा में आरएसएस के कार्यकर्ता की हत्या कर दी गयी थी। भाजपा ने एलडीएफ सरकार पर अपराधियों का साथ देने का आरोप लगाया है।

मृत आरएसएस कार्यकर्ता के परिवार से मुलाकात करने के बाद जोशी ने कहा, ‘‘ प्रदेश भाजपा उनके परिवार की देखभाल करेगी। फिलहाल हम बस राज्य सरकार से(उपयुक्त जांच की) अपील कर सकते हैं... यदि आपके पास उचित मशीनरी नहीं है या मैं कहूं कि राजनीतिक इच्छाशक्ति नहीं है, तो आप इस मामले को सीबीआई को सौंप दीजिए।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम जांच करेंगे..हमें छूट दीजिए और हम इस हिंसा पर विराम लगा देंगे।’’ भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन भी जोशी के साथ थे। 

इसे भी पढ़ें: सियासी दंगल में किसका होगा मंगल? नेताओं के वार-पलटवार में दिख रही तकरार

जोशी ने कहा, ‘‘संपूर्ण तौर पर भारत और विशेषकर केरल के लोग हिंसा को कभी बर्दाश्त नहीं करेंगे। वे इन चीजों का मुंहतोड़ जवाब देंगे।’’ पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया की राजनीतिक इकाई सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) के आठ कार्यकर्ताओं को 23 साल के नंदू की हत्या के सिलसिले में 25 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।