छत्तीसगढ़ में भाजपा का जेल भरो आंदोलन, पूर्व मंत्री बृजमोहन समेत कई नेता हुए गिरफ्तार

Brijmohan Agrawal
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
भाजपा नेता बृजमोहन अग्रवाल ने भूपेश बघेल सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि हमने 'काले कानून' के खिलाफ यह विरोध प्रदर्शन आयोजित किया है। आज भाजपा ने इसके खिलाफ पूरे राज्य में 'जेल भरो' आंदोलन शुरू किया है, हम देखना चाहते हैं कि भूपेश बघेल सरकार की जेलों में कितनी जगह है।

रायपुर। छत्तीसगढ़ में प्रदर्शन, रैलियों, आंदोलन की अनुमति के विरोध में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सोमवार को राज्यव्‍यापी प्रदर्शन किया। इस दौरान भारी संख्या में भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन के साध-साध 'जेल भरो आंदोलन' किया। इसी बीच छत्तीसगढ़ पुलिस ने पूर्व मंत्री और भाजपा नेता बृजमोहन अग्रवाल समेत कई पार्टी नेताओं को गिरफ्तार कर लिया। दरअसल, रायपुर के कालीबाड़ी से बृजमोहन अग्रवाल की अगुवाई में भाजपा नेता मुख्यमंत्री आवास की ओर कूच कर रहे थे, जिन्हें पुलिस ने रास्ते में ही रोक दिया। 

इसे भी पढ़ें: भूपेश बघेल ने किया श्री राम का गुणगान, रमन सिंह बोले- सबूत मांगने वाले आज राम भक्त होने का नाटक कर रहे 

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, मुख्यमंत्री आवास की तरफ बढ़ रहे भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बैरिकेड लगाकार रास्ते में ही रोक दिया। इस दौरान भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीच हल्की धक्कामुक्की भी हुई। जिसके बाद पुलिस ने बृजमोहन अग्रवाल समेत कई भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया।

भूपेश बघेल पर बरसे बृजमोहन

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, भाजपा नेता बृजमोहन अग्रवाल ने बताया कि हमने इस 'काले कानून' के खिलाफ यह विरोध प्रदर्शन आयोजित किया है। आज भाजपा ने इसके खिलाफ पूरे राज्य में 'जेल भरो' आंदोलन शुरू किया है, हम देखना चाहते हैं कि भूपेश बघेल सरकार की जेलों में कितनी जगह है। 

इसे भी पढ़ें: छत्तीसगढ़: नेता प्रतिपक्ष कौशिक का तंज, मुख्यमंत्री की यात्रा मुन्नाभाई एमबीबीएस के तर्ज पर है 

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ सरकार ने हाल ही में धरना प्रदर्शन, आंदोलन, रैली इत्यादि को लेकर दिशा-निर्देश जारी किया था। छत्तीसगढ़ के गृह विभाग ने अपने आदेश में सभी कलेक्टर और एसपी से कहा था कि कोई भी धरना प्रदर्शन, आंदोलन, रैली इत्यादि अब जिला प्रशासन की अनुमति के बिना आयोजित नहीं किए जाएंगे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़