TMC का भाजपा पर आरोप, कहा- रथयात्रा के जरिए उकसाना चाहती है सांप्रदायिक जुनून

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 28, 2018   08:40
TMC का भाजपा पर आरोप, कहा- रथयात्रा के जरिए उकसाना चाहती है सांप्रदायिक जुनून

तृणमूल कांग्रेस के महासचिव पार्थ चटर्जी ने कहा कि उनकी पार्टी रचनात्मक राजनीति में भरोसा करती है जबकि भाजपा केवल विध्वंसक राजनीति और लोगों को बांटने में भरोसा रखती है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी की प्रस्तावित रथ यात्रा के बारे में राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि इसका मकसद प्रदेश में सांप्रदायिक जुनून को उकसाना है । इसके साथ ही सत्तारूढ़ दल ने यह भी आरोप लगाया है कि भाजपा आम चुनाव से पहले राज्य में लोगों को धार्मिक अधार पर बांटना चाहती है। तृणमूल कांग्रेस के महासचिव पार्थ चटर्जी ने कहा कि उनकी पार्टी रचनात्मक राजनीति में भरोसा करती है जबकि भाजपा केवल विध्वंसक राजनीति और लोगों को बांटने में भरोसा रखती है।

इसे भी पढ़ें : रथयात्रा को लेकर बंगाल में बवाल जारी, सुप्रीम कोर्ट पहुंची भाजपा

चटर्जी ने संवाददाताओं को बताया, ‘जिस तरह की बयानबाजी भारतीय जनता पार्टी के नेता रोज कर रहे हैं उससे यह परिलक्षित होता है कि पार्टी राज्य में कैसे हिंसा को उकसा रही है। कानून अवज्ञा कार्यक्रम के नाम पर भाजपा और इसके कार्यकर्ता जो कर रहे हैं, वह केवल उपद्रव है।’ चटर्जी की टिप्पणी राज्य के विभिन्न भागों में भाजपा के कानून अवज्ञा कार्यक्रम के खिलाफ आयी है। राज्य सरकार ने भाजपा को प्रदेश में रथयात्रा करने की अनुमति नहीं दी है, इसके खिलाफ पार्टी कार्यकर्ताओं ने प्रदेश में कानून अवज्ञा कार्यक्रम का आयोजन किया है।

इसे भी पढ़ें : WB सरकार ने BJP को रथयात्रा पर मिली मंजूरी के खिलाफ की अपील

तृकां महासचिव ने कहा कि भाजपा की रथयात्रा का एकमात्र मकसद राज्य में सांप्रदायिक जुनून को उकसाना है। प्रदेश के उत्तर 24 परगना जिले के बासीरहाट में सोमवार को भाजपा के कानून अवज्ञा कार्यक्रम में पार्टी कार्यकर्ताओं और पुलिस कर्मियों के बीच झड़प में कुछ लोग घायल हो गए थे। पुलिस ने बताया कि इस मामले में कम से कम 54 लोगों को या तो हिरासत में लिया गया था अथवा गिरफ्तार किया गया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।