• भाजयुमो ने एके शशिंद्रन के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले, वाटर कैनन का किया इस्तेमाल

बता दें कि वन मंत्री एके शशिंद्रन पर कोल्लम में पार्टी की एक सदस्य से जुड़े यौन उत्पीड़न के मामले में समझौता कराने की कोशिश करने का आरोप है। जिसको लेकर कांग्रेस, भाजपा और प्रदेश के दूसरे विपक्षी दलों ने एके शशिंद्रन की जमकर आलोचना की।

तिरुवनंतपुरम। भाजपा युवा मोर्चा (भाजयुमो) के कार्यकर्ताओं ने केरल सरकार में मंत्री एके शशिंद्रन के इस्तीफे की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और वाटर कैनन का इस्तेमाल किया। समाचार न्यूज एजेंसी एएनआई ने भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं के विरोध प्रदर्शन का वीडियो साझा। जिसमें देखा जा सकता है कि किस तरह से उनपर वाटर कैनन का इस्तेमाल किया गया। 

इसे भी पढ़ें: 22 जुलाई से शुरू होगा केरल विधानसभा का सत्र, विपक्ष उठा सकता है कई विवादास्पद मुद्दे 

आपको बता दें कि वन मंत्री एके शशिंद्रन पर कोल्लम में पार्टी की एक सदस्य से जुड़े यौन उत्पीड़न के मामले में समझौता कराने की कोशिश करने का आरोप है। जिसको लेकर कांग्रेस, भाजपा और प्रदेश के दूसरे विपक्षी दलों ने एके शशिंद्रन की जमकर आलोचना की। हालांकि, एके शशिंद्रन ने मीडिया को बताया था कि उन्होंने लड़की के पिता को फोन किया था लेकिन मामले को सुलझाने के लिए, क्योंकि उन्हें लगा था कि यह पार्टी में विवाद है। उन्होंने दावा किया कि जब उन्हें पता चला कि यह यौन उत्पीड़न की कोशिश का मामला है तो उन्होंने फिर हस्तक्षेप नहीं किया। 

इसे भी पढ़ें: केरल में छह महीने के बच्चे की दुर्लभ बीमारी ‘एसएमए’ से मौत 

वहीं, कोल्लम की एक महिला का दावा किया कि मंत्री ने पहले दूसरे लोगों के जरिए अप्रत्यक्ष हस्तक्षेप करके और फिर सीधे उसके पिता को फोन करके मामले में समझौता कराने की कोशिश की। दरअसल, यह मामला तब सुर्खियों में आया जब समाचार चैनलों ने शशींद्रन और महिला के पिता के बीच टेलीफोन पर हुई कथित बातचीत का प्रसारण किया। जिसमें मामले को सुलझाने की बात कही जा रही थी। इसी मामले को लेकर भाजयुमो के कार्यकर्ताओं ने मंत्री से इस्तीफे की मांग की है।