कंगना के बयान पर बोस की बेटी बोलीं, स्वतंत्रता केवल अहिंसा के चलते नहीं मिली, इसे पाने में नेताजी और गांधी जी दोनों की भूमिका महत्वपूर्ण

कंगना के बयान पर बोस की बेटी बोलीं, स्वतंत्रता केवल अहिंसा के चलते नहीं मिली, इसे पाने में नेताजी और गांधी जी दोनों की भूमिका महत्वपूर्ण

मोहनदास करमचंद गांधी के उनके पिता के साथ संबंधों को लेकर बात करते हुए अनीता बोस ने कहा कि सुभाष चंद्र गांधीजी और नेताजी दोनों देश के स्वतंत्रता संग्राम के महान नायक हैं। उनका काम एक दूसरे की मदद के बिना पूरा नहीं होता।

कंगना रनौत के महात्मा गांधी को लेकर दिए बयान का मुद्दा पूरे देश में गर्माया हुआ है। विपक्षी दलों के नेता आोरप लगा रहे हैं कि कंगना बीजेपी का मोहरा बनकर गांधी-नेहरू को बदनाम कर रही हैं। कंगना ने जब ये कहा कि आप गांधी के फैन हो सकते हैं या  फिर सुभाष चंद्र  बोस के। जिसके बाद सुभाष चंद्र बोस की बेटी अनीता बोस का बड़ा बयान सामने आया है। मोहनदास करमचंद गांधी के उनके पिता के साथ संबंधों को लेकर बात करते हुए अनीता बोस ने कहा कि सुभाष चंद्र गांधीजी और नेताजी दोनों देश के स्वतंत्रता संग्राम के महान नायक हैं। उनका काम एक दूसरे की मदद के बिना पूरा नहीं होता।

गांधी को लगता था कि वो नेताजी को कंट्रोल नहीं कर पा रहे 

अनीता बोस ने कहा कि अब ये चर्चा करना कि एक स्वतंत्रता सेनानी का योगदान ज्यादा था। मुझे लगता है कि सभी स्वतंत्रता सेनानियों और आजादी के लिए लड़ने वाले लाखों गुमनाम लोगों ने आजादी दिलाने में योगदान दिया है। महात्मा गांधी और मेरे पिता की प्रकृति बेहद जटिल थी। गांधी को लगता था कि वो मेरे पिता को कंट्रोल नहीं कर पा रहे हैं। दूसरी तरफ हमें ये भी महसूस करना चाहिए कि मेरे पिता महात्मा गांधी के बहुत बड़े प्रशंसक थे। अपने काम को लेकर महात्मा गांधी की प्रतिक्रिया में हमेशा उनकी उत्सुकता रहती थी। 

केवल अहिंसा के चलते ही नहीं मिली स्वतंत्रता 

सुभाष चंद्र बोस की बेटी अनीता बोस के अनुसार स्वतंत्रता केवल अहिंसा के चलते ही नहीं मिली, इसे पाने में नेताजी और गांधी जी दोनों की ही भूमिका महत्वपूर्ण थी, और इसे बिल्कुल भी नकारा नहीं जा सकता।इसलिए ये बहस की दोनों एक दूसरे के दुश्मन थे, ये एकतरफा विचार है। एक तरफ दोनों आजादी के मकसद के लिए संघर्ष कर रहे थे, तो दूसरी तरफ तरीकों को लेकर एक-दूसरे के विचारों से सहमत नहीं थे। कांग्रेस ने लंबे समय तक ये दावा करने की कोशिश की कि केवल एक अहिंसक नीति ही भारत की स्वतंत्रता के लिए जिम्मेदार थी। हम सभी जानते हैं कि नेताजी और आईएनए की कार्रवाईयों ने भी भारत की आजादी में योदगान दिया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।