असम-नागालैंड सीमा विवाद: दोनों राज्यों ने विवादित जगह से पुलिस को हटाने के लिए एग्रीमेंट पर किए दस्तखत

Himanta Biswa Sarma
मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आज असम और नागालैंड सरकारों के मुख्य सचिवों ने एक एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किया है। इसके मुताबिक दोनों सरकारों की पुलिस बॉर्डर क्षेत्र में जहां आमने सामने थी वो अपने राज्य के बेस कैंप तक लौटकर चली जाएगी और यथास्थिति बनाए रखेगी।

गुवाहाटी। असम-नागालैंड सीमा विवाद में सहमति बन गई है। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा का बयान सामने आया है। जिसमें उन्होंने दोनों राज्यों की पुलिस के वापस लौटने की बात कही। उन्होंने कहा कि पुलिस अपने राज्य के बेस कैंप तक वापस चली जाएगी और यथास्थिति को बनाए रखेगी। 

इसे भी पढ़ें: सीआरपीएफ ने असम-मिजोरम के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग पर गश्त लगाना शुरू किया 

इसी बीच मिजोरम पुलिस द्वारा खुद पर एफआईआर दर्ज करने पर मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने शनिवार को कहा कि ये बच्चों का काम है। जिस जगह झगड़ा हुआ था वो जगह असम की थी और है। इसलिए असम पुलिस का ही केस पर अधिकार बनता है। अगर कोई केस रजिस्टर हुआ है तो अच्छा है। इस केस को एनआईए को सौंप देना चाहिए, ताकि वह जांच कर सके।

असम-नागालैंड के बीच बनी सहमति 

मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आज असम और नागालैंड सरकारों के मुख्य सचिवों ने एक एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किया है। इसके मुताबिक दोनों सरकारों की पुलिस बॉर्डर क्षेत्र में जहां आमने सामने थी वो अपने राज्य के बेस कैंप तक लौटकर चली जाएगी और यथास्थिति बनाए रखेगी। 

इसे भी पढ़ें: असम-मिजोरम सीमा विवाद: MHA की बैठक में दोनों सरकारें तटस्थ बलों की तैनाती पर हुई सहमत 

उन्होंने कहा कि सेटेलाइट इमेज से यथास्थिति बनी रहे इस पर सबकी नजर रहेगी। यह बहुत बड़ा लैंडमार्क है। इसके लिए मैं नागालैंड के मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करता हूं। इससे असम और नागालैंड के बीच की फेंसिंग को और बल मिलेगा। आपको बता दें कि असम और नागालैंड के मुख्य सचिवों ने एक एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किया है। जिसके तहत तत्काल प्रभाव से पुलिस को विवादित जगह से हटा दिया जाएगा।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़