तेंदुए के जबड़े से निकालकर इस जांबाज मां ने अपने बेटे को बचाया, हमले में हुई चोटिल

तेंदुए के जबड़े से निकालकर इस जांबाज मां ने अपने बेटे को बचाया, हमले में हुई चोटिल

मां ने हिम्मत दिखाते हुए तेंदुए को पकड़ा और उसके जबड़े से अपने बेटे को निकाल लिया। इस दौरान तेंदुए ने महिला पर कई बार वार किया लेकिन हार ना मानते हुए मां ने आखिरकार अपने बेटे को बचा ही लिया। बता दें कि मां और बेटा दोनों ही गंबीर रूप से घायल हो गए हैं।

मध्य प्रदेश के संजय टाइगर बफर जोन टमसार रेंज अंतर्गत बाड़ीझरिया गांव में एक बागी मां ने तेंदुए के जबड़े से अपने 8 साल के बेटे राहुल को निकालकर उसकी जान बचाई। बता दें कि, आदिवासी परिवार की किरण बैगा अपने तीन बच्चों के साथ घर के बाहर आग जलाकर बैठी हुई थी तभी अचानक से पीछे से तेंदुआ आ आया और बगल में बैठे 8 साल के बेटे राहुल को अपने मुंह में दबाकर जंगल की ओर भाग गया। मां ने हिम्मत दिखाते हुए तेंदुए को पकड़ा और उसके जबड़े से अपने बेटे को निकाल लिया। इस दौरान तेंदुए ने महिला पर कई बार वार किया लेकिन हार ना मानते हुए मां ने आखिरकार अपने बेटे को बचा ही लिया। बता दें कि मां और बेटा दोनों ही गंबीर रूप से घायल हो गए हैं और उनका इलाज समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कुसमी में चल रहा है। 

इसे भी पढ़ें: घर के अंदर पति, पत्नी और दो बच्चों का शव मिला, आत्महत्या या परिवार को किसी और ने उतारा मौत के घाट?

घटना के बाद आदिवासी क्षेत्र में दहशत का माहौल बना हुआ है। साल भर के भीतर यह दूसरी घटना है। बता दें कि, महिला और तेंदुए के इस संघर्ष के बीच मौके पर गांव वाले भी पहुंच गए और लोगों की भीड़ देखते ही तेंदुआ जंगल की ओर भाग गया। महिला ने बताया कि, इसके बाद वह बेहोश हो गई और जह उसकी आँख खुली तो अपने आपको अस्पताल में पाया। जानकारी के लिए बता दें कि, यहां आमतौर पर दिन-रात लोग डर के माहौल में रहते हैं। लोगों के मुताबिक, संजय टाइगर रिजर्व के बफर जोन में रहते हैं और आए दिन इस तरह की घटनाएं होती रहती है। तेंदुए और भालू भी घर का आस-पास घूमते रहते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।