कोविड-19 के मामले बढ़ने के मद्देनजर उत्तरी मुंबई के घनी आबादी वाले इलाकों में इमारतों को किया जाएगा सील

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 27, 2020   11:02
कोविड-19 के मामले बढ़ने के मद्देनजर उत्तरी मुंबई के घनी आबादी वाले इलाकों में इमारतों को किया जाएगा सील

पुलिस ऐसी इमारतों को सील कर रही है और इन कदमों के नतीजे अगले कुछ दिनों में दिखाई देंगे। सिंह ने बताया कि शहर में अभी 750 निषिद्ध क्षेत्र हैं जिनमें से 300 अकेले उत्तरी मुंबई में स्थित हैं।

मुंबई। मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने कहा कि पिछले 15 दिनों में यहां कोविड-19 के मामले बढ़ने के मद्देनजर उत्तर मुंबई के घनी आबादी वाले इलाकों और झुग्गी बस्तियों में इमारतों को सील किया जाएगा। शुक्रवार को उत्तरी मुंबई का दौरा करने के दौरान पुलिस आयुक्त ने कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ने के पीछे यहां घनी आबादी को कारण बताया। उत्तरी मुंबई में दहीसर, बोरिवली, मलाड, चारकोप और कांदिवली जैसे इलाके आते हैं तथा यहां पिछले 15 दिनों में संक्रमण के मामले बढ़े हैं। उन्होंने बताया कि झुग्गी बस्तियों और अन्य घनी आबादी वाले स्थानों पर स्थित इमारतों में कई मामले सामने आए हैं। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में 24 घंटे में 5,024 नए मामले सामने आए, कुल संक्रमितों की संख्या 1.5 लाख के पार पहुंची

पुलिस ऐसी इमारतों को सील कर रही है और इन कदमों के नतीजे अगले कुछ दिनों में दिखाई देंगे। सिंह ने बताया कि शहर में अभी 750 निषिद्ध क्षेत्र हैं जिनमें से 300 अकेले उत्तरी मुंबई में स्थित हैं। उन्होंने बताया कि इसके अलावा पुलिस ने संक्रमण से सबसे अधिक प्रभावित 27 क्षेत्रों की पहचान की है और इन इलाकों में सख्त लॉकडाउन लगाया गया है। पुलिस आयुक्त ने कहा कि लोगों को संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए भौतिक दूरी के नियमों का पालन करना चाहिए और अगर वे किसी आवश्यक काम के लिए घर से बाहर निकल रहे हैं तो उन्हें मास्क पहनना चाहिए तथा सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना चाहिए। बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के आंकड़ों के अनुसार मुंबई में कोविड-19 के 72,287 मामले सामने आए हैं और 4,177 लोगों की मौत हुई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।