बक्सर के बाद अब उत्तर प्रदेश के गाजीपुर के घाट पर पानी में तैरती मिली दर्जनों लाशें, जांच शुरू

बक्सर के बाद अब उत्तर प्रदेश के गाजीपुर के घाट पर पानी में तैरती मिली दर्जनों लाशें, जांच शुरू

बिहार के बक्सर जिले के चौसा प्रखंड में गंगा के तट पर सोमवार को 40-50 शव फूले हुए पानी में तैरते हुए मिले। यह दृश्य काफी भयानक था। अब ये स्थिति उत्तर प्रदेश के गाजिपुर में भी देखी गयी।

बिहार के बक्सर जिले के चौसा प्रखंड में गंगा के तट पर सोमवार को 40-50 शव फूले हुए पानी में तैरते हुए मिले। यह दृश्य काफी भयानक था। अब ये स्थिति उत्तर प्रदेश के गाजिपुर में भी देखी गयी।  उत्तर प्रदेश के गाजिपुर जिले में नदी के तट पर दिल दहरा देने वाला दृश्य दिखाई दिया। गाजिपुर में के घाट पर पानी में दर्जनों शव तैरते दिखें।

 

 गाजीपुर के जिलाधिकारी एमपी सिंह ने कहा कि शव कहां से आए हैं, इसका पता लगाने के लिए जांच शुरू कर दी गई है। गाजीपुर के डीएम एमपी सिंह ने कहा, "हमें जानकारी मिली, हमारे अधिकारी मौके पर मौजूद हैं और एक जांच जारी है। हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि वे कहां से आए थे। शवों पर कोविड -19 रोगियों के होने का संदेह है, जिन्हें नदी में फेंक दिया गया था, जिससे भारत में कोविड के आपातकाल के पैमाने का पता चलता है।

इसे भी पढ़ें: भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या में आयी मामूली गिरावट, एक दिन में 3.29 लाख नये मरीज, 3,876 लोगों की मौत 

बिहार के बक्सर में, दर्जनों शव, सभी विघटित, गंगा के तट पर बह गए, स्थानीय लोगों में दहशत फैल गई। स्थानीय लोगों ने कहा है कि यह आजकल एक आम दृश्य है क्योंकि लोग अपने रिश्तेदारों के शवों को नदी में डुबोना शुरू कर दिया है क्योंकि श्मशानघाट में शवों को जलाने के लिए लकड़ियां नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें: कोरोना संकट में भारत की मदद के लिए Twitter ने 110 करोड़ का दिया दान  

क्या मीडिया में कोरोना वायरस की मौत और संक्रमितों की जो आंकड़े दिखाीई जा रही हैं व सहीं है? यह सवाल इस लिए दोहराया जा रहा है क्योंकि बिहार के बक्सर जिसे से जो तस्वीर सामने आयी है वह अत्मा को झकझोर और मानवता को शर्मशार कर देने वाली तस्वीर है। ये तस्वीर लोगोें की मजबूरी के दर्द को भी बयां करती हैं। कोरोना वायरस की दूसरी लहर भारत के लिए बहुत ही खतरनाक साबित हुई है। आजाद भारत की ऐसी दयनीय तस्वीर भारत में कभी नहीं देखी गयी। कोरोना के दौरान अस्पतालों में मरीजों के लिए बेड नहीं, शमशान घाट पर शवों को जलाने के लिए जगह नहीं!  सरकारी आकंड़ों में मौत की संख्या जो दिखाई गयी उससे विपरीत स्थिति जमीनी स्तर पर देखी गयी।

 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept