वर्ष 2030 तक भारत में हृदयघात से मरने वालों की संख्या सर्वाधिक होगी : डॉ. मंजूनाथ

heartattack
Pixabay free license
प्रख्यात हृदयरोग विशेषज्ञ डॉ. सी. एन. मंजूनाथ् ने चेतावनी दी है कि वर्ष 2030 तक हृदय संबंधी बीमारियों से भारत में सर्वाधिक मौतें होंगी। उनका आकलन है कि उस समय हर चौथी मौत हृदय संबंधी बीमारियों से होगी।

बेंगलुरु। प्रख्यात हृदयरोग विशेषज्ञ डॉ. सी. एन. मंजूनाथ् ने चेतावनी दी है कि वर्ष 2030 तक हृदय संबंधी बीमारियों से भारत में सर्वाधिक मौतें होंगी। उनका आकलन है कि उस समय हर चौथी मौत हृदय संबंधी बीमारियों से होगी। मंजूनाथ ने एचएएल के डॉक्टरों के लिए ‘‘ स्वस्थ्य कार्यबल सुनिश्चित करें’’ विषयपर आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन ‘‘एचएएल मेडिकॉन-2022’’ को संबोधित करते हुए यह बात कही।

इसे भी पढ़ें: शिवराज ने राहुल को कुंठित, हताश और देश का सबसे असफल नेता बताया, कहा- कांग्रेस का भगवान ही मालिक है

श्री जयदेव इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोवैस्कुलर साइंसेज ऐंड रिसर्च के निदेशक ने इस स्थिति से बचने के लिए संपूर्ण और एकीकृत प्रयास करने का आह्वान किया जिसमें तनाव प्रबंधन और स्वस्थ जीवन शैली को अंगीकार करना शामिल है।

इसे भी पढ़ें: Cannes 2022: कान में ऐश्वर्या राय के 20 साल पूरे, फैशन डिजाइनर गौरव गुप्ता ने यादगार बनाया इवेंट

उन्होंने कहा, ‘‘युवाओं और अधेड़ उम्र की आबादी में हृदय की समस्या बढ़ रही है और यह चेतावनी है।’’ कंपनी द्वारा जारी विज्ञप्ति के मुताबिक दो दिवसीय सम्मेलन (21 और 22 मई) में एचएचएल के डॉक्टर एकत्र हुए हैं और वे विचारों का आदान प्रदान करेंगे। विज्ञप्ति के मुताबिक इस सम्मेलन का उद्घाटन हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक (सीएमडी) आर. माधवन ने किया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़