CAA को चुनौती मिल रही है क्योंकि वह संवैधानिक शुचिता के खिलाफ है: विजयन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 14, 2020   19:05
CAA को चुनौती मिल रही है क्योंकि वह संवैधानिक शुचिता के खिलाफ है: विजयन

मुख्यमंत्री ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा है कि राज्य सरकार ने संशोधित नागरिकता कानून, 2019 के खिलाफ याचिका दी है, जोकि संविधान की शुचिता के खिला है। उन्होंने लिखा है कि यह संविधान के भीतर रहते हुए नागरिक अधिकारों की रक्षा करने के लिए हमारी ओर से हस्तक्षेप किया गया है।

तिरुवनंतपुरम। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने मंगलवार को कहा कि राज्य, संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में इसलिए गया क्योंकि यह संवैधानिक शुचिता के खिलाफ है। संविधान के दायरे में रहते हुए यह हस्तक्षेप किए जाने का दावा करते हुए विजयन ने कहा कि संविधान और नागरिकों के मौलिक अधिकारों की रक्षा करने में राज्य सबसे आगे रहेगा।

मुख्यमंत्री ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा है, ‘‘राज्य सरकार ने संशोधित नागरिकता कानून, 2019 के खिलाफ याचिका दी है, जोकि संविधान की शुचिता के खिला है।’’ उन्होंने लिखा है, ‘‘यह संविधान के भीतर रहते हुए नागरिक अधिकारों की रक्षा करने के लिए हमारी ओर से हस्तक्षेप किया गया है।’’ माकपा नीत केरल सरकार पहली राज्य सरकार है जिसने कानून को अदालत में चुनौती दी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...