कैबिनेट सचिव ने चक्रवात ‘जवाद’ से जनहानि नहीं हो, यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 4, 2021   09:37
कैबिनेट सचिव ने चक्रवात ‘जवाद’ से जनहानि नहीं हो, यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए

कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवात ‘जवाद’ से निपटने की तैयारियों की शुक्रवार को समीक्षा की और सभी संबंधित एजेंसियों को निर्देश दिया कि वे यह सुनिश्चित करें कि जनहानि न हो तथा संपत्ति को न्यूनतम क्षति हो। चक्रवात, शनिवार सुबह तक उत्तर आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तट पर पहुंच सकता है।

नयी दिल्ली। कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवात ‘जवाद’ से निपटने की तैयारियों की शुक्रवार को समीक्षा की और सभी संबंधित एजेंसियों को निर्देश दिया कि वे यह सुनिश्चित करें कि जनहानि न हो तथा संपत्ति को न्यूनतम क्षति हो। चक्रवात, शनिवार सुबह तक उत्तर आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तट पर पहुंच सकता है। भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, इसके पांच दिसंबर मध्याह्न तक पुरी पहुंचने की संभावना है। आंध्र और ओडिशा के अलावा पश्चिम बंगाल भी ‘जवाद’ की चपेट में आ सकता है और तटीय इलाकों में भारी बारिश होने के आसार हैं।

गौबा की अध्यक्षता में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति (एनसीएमसी) की बैठक के बाद सरकार की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, “राज्यों और केंद्रीय एजेंसियों की तैयारी की समीक्षा करने के बाद कैबिनेट सचिव ने कहा कि सभी प्रोटोकॉल का पालन किया जाना चाहिए ताकि जनहानि न हो और संपत्ति को न्यूनतम क्षति हो।”

बयान में कहा गया, “कैबिनेट सचिव ने यह भी निर्देश दिया कि समुद्र में गए सभी मछुआरों और नौकाओं की जानकारी संबंधित राज्यों के पास होनी चाहिए और उन्हें भारतीय तटरक्षक और अन्य केंद्रीय एजेंसियों द्वारा सहायता दी जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।