मुजफ्फरनगर हिंसा के दौरान भड़काऊ भाषण देने का मामला, मंत्री सुरेश राणा, संगती सोम समेत कई नेताओं के केस वापस

Muzaffarnagar violence
अभिनय आकाश । Mar 27, 2021 2:05PM
साल 2013 में हुए मुजफ्फरनगर दंगा के मामले में अपने मंत्री और विधायक पर लगे केस वापस ले लिए हैं। केस वापस लेने को एमपी/ एमएलए कोर्ट ने अपनी सहमति दे दी। इसके अलावा बिजनौर के पूर्व सांसद भारतेंद्र सिंह, साध्वी प्राची, श्यामपाल के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने का मुकदमा दर्ज किया था।

मुजफ्फरनगर हिंसा के दौरान भड़काऊ भाषण देने के मामले में मंत्री सुरेश राणा, विधायक संगीत सोम और पूर्व सांसद भारतेंद्र का केस वापस होगा। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार ने साल 2013 में हुए मुजफ्फरनगर दंगा के मामले में अपने मंत्री और विधायक पर लगे केस वापस ले लिए हैं। केस वापस लेने को एमपी/ एमएलए कोर्ट ने अपनी सहमति दे दी। इसके अलावा बिजनौर के पूर्व सांसद भारतेंद्र सिंह, साध्वी प्राची, श्यामपाल के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने का मुकदमा दर्ज किया था। उस वक्त कुल 11 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था। 

क्या था मामला

कमालगांव में सितंबर 2013 में महापंचायत हुई थी। महापंचायत में बीजेपी नेताओं पर आरोप लगा था कि इन्होंने भड़काऊ भाषण दिए थे। जिसके बाद इन पर भड़काऊ भाषण देने का केस दर्ज कर मुकदमा चला। लेकिन अब कोर्ट की तरफ से इन्हें  बड़ी रहात देने वाली खबर सामने आई। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़