कानुपर में अंग्रेजी पत्रिका ‘‘दि वीक’’ पर धार्मिक भावनाएं आहत करने का मामला दर्ज

Magazine
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
भगवान शिव और मां काली का जानबूझकर अपमान करने से भड़के बजरंग दल के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को शहर के बड़ा चौराहा पर इस पत्रिका की प्रतियां जलाईं और पत्रिका के संपादक तथा अन्य लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग करते हुए प्रदर्शन किया।

कानपुर (उप्र), 6 अगस्त। कानपुर में पुलिस ने हिंदू देवी-देवताओं की अपमानजनक तस्वीर छापने और हिंदुओं की धार्मिक भावनाएं आहत करने के आरोप में अंग्रेजी पत्रिका ‘‘दि वीक’’ के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। यह प्राथमिकी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष प्रकाश शर्मा की शिकायत पर दर्ज की गई है। शर्मा ने पत्रिका के संपादक और प्रशासनिक प्रबंधन पर हिंदुओं की धार्मिक भावनाएं आहत करने का आरोप लगाया है।

भगवान शिव और मां काली का जानबूझकर अपमान करने से भड़के बजरंग दल के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को शहर के बड़ा चौराहा पर इस पत्रिका की प्रतियां जलाईं और पत्रिका के संपादक तथा अन्य लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग करते हुए प्रदर्शन किया। पुलिस उपायुक्त (पूर्व) प्रमोद कुमार ने इस बात की पुष्टि की है कि भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 295ए के तहत आपराधिक मामला दर्ज किया गया है।

जांच अधिकारी को इन आरोपों की उचित ढंग से जांच करने और उसके मुताबिक कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। शर्मा ने पीटीआई-से कहा कि पत्रिका ने भगवान शिव और मां काली की आपत्तिजनक फोटो प्रकाशित की है और जानबूझकर हिंदुओं खासकर भगवान शिव और मां काली के भक्तों की धार्मिक भावनाएं आहत की हैं।

उन्होंने कहा कि इस आपत्तिजनक कृत्य के लिए जिम्मेदार संपादक और अन्य लोग से सख्ती से निपटा जाना चाहिए। शर्मा ने कहा कि पत्रिका में पृष्ठ संख्या 62 औऱ 63 पर एक आपत्तिजनक लेख प्रकाशित किया गया है जिसमें भगवान शिव और मां काली की अशोभनीय तस्वीरें छपी थीं। इससे उनकी धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं। उन्होंने इस पत्रिका पर प्रतिबंध लगाए जाने की मांग की। शर्मा ने कहा कि यह पहली बार नहीं हुआ है जब किसी ने हिंदू देवी-देवताओं की आपत्तिजनक तस्वीर छापी हो या उनका मजाक उडाया हो, बल्कि यह एक चलन बन गया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़