तमिलनाडु की आपत्ति के बाद कावेरी प्राधिकरण ने मेकेदातु पर चर्चा नहीं की: तमिलनाडु सरकार

Cauvery
तमिलनाडु सरकार ने कहा है कि कावेरी जल प्रबंधन प्राधिकरण (सीडब्ल्यूएमए) ने मंगलवार को राजधानी दिल्ली में आयोजित अपनी बैठक में कर्नाटक के मेकेदातु बांध प्रस्ताव पर चर्चा से परहेज किया, क्योंकि तमिलनाडु ने इस पर कड़ी आपत्ति जतायी थी।

चेन्नई। तमिलनाडु सरकार ने कहा है कि कावेरी जल प्रबंधन प्राधिकरण (सीडब्ल्यूएमए) ने मंगलवार को राजधानी दिल्ली में आयोजित अपनी बैठक में कर्नाटक के मेकेदातु बांध प्रस्ताव पर चर्चा से परहेज किया, क्योंकि तमिलनाडु ने इस पर कड़ी आपत्ति जतायी थी। तमिलनाडु सरकार ने कहा कि सीडब्ल्यूएमए ने कर्नाटक को तमिलनाडु को 27.86 हजार मिलियन क्यूबिक फुट कावेरी पानी छोड़ने का भी निर्देश दिया।

इसे भी पढ़ें: UP में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 19 नये मामले आये, अब तक कुल 7,15,49,386 को लगाई गई वैक्सीन

यहां जारी एक आधिकारिक विज्ञप्ति में राष्ट्रीय राजधानी में आयोजित प्राधिकरण की13वीं बैठक की कार्यवाही का हवाला देते हुए कहा गया है कि कर्नाटक ने 30 अगस्त तक केवल 57.04 टीएमसी पानी छोड़ा है। इसके अनुसार हालांकि बैठक के एजेंडे में मेकेदातु का उल्लेख एक विषय के रूप में किया गया था, लेकिन तमिलनाडु की कड़ी आपत्ति के बाद इस पर चर्चा छोड़ दी गई।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़