बिहार में राजद नेताओं के खिलाफ CBI की छापेमारी, मनोज झा ने केंद्र सरकार पर उठाए सवाल, भाजपा का पलटवार

manoj jha and sanjay jaiswal
ANI
अंकित सिंह । Aug 24, 2022 10:44AM
आज सुबह सवेरे राजद के 4 नेताओं के आवास पर सीबीआई की छापेमारी की गई। जिन नेताओं के यहां यह छापेमारी की गई है उनमें राजद एमएलसी सुनील सिंह, पूर्व राजद विधायक सुबोध राय, राज्यसभा सांसद अशफाक करीम और फैयाज अहमद शामिल हैं।

बिहार के लिए आज बेहद महत्वपूर्ण दिन है। एक ओर जहां नीतीश कुमार अपनी सरकार का बहुमत विधानसभा में साबित करेंगे। तो वही दूसरी और राजद नेताओं के खिलाफ सीबीआई की छापेमारी लगातार जारी है। आज सुबह सवेरे राजद के 4 नेताओं के आवास पर सीबीआई की छापेमारी की गई। जिन नेताओं के यहां यह छापेमारी की गई है उनमें राजद एमएलसी सुनील सिंह, पूर्व राजद विधायक सुबोध राय, राज्यसभा सांसद अशफाक करीम और फैयाज अहमद शामिल हैं। यह सभी नेता लालू यादव के बेहद करीबी माने जाते हैं। हालांकि सीबीआई की छापेमारी ऐसे दिन हो रही है जब विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होना है। यही कारण है कि राजद की ओर से केंद्र सरकार पर जबरदस्त तरीके से निशाना साधा जा रहा है। राजद एमएलसी ने साफ तौर पर कह दिया है कि आज जानबूझकर किया जा रहा है। इसका कोई मतलब नहीं है। हमें डराने की कोशिश की जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: बिहार में शक्ति परीक्षण से पहले सियासी हलचल तेज, RJD MLC सुनील सिंह के घर CBI का छापा

दूसरी और राजद सांसद मनोज झा ने भी साफ तौर पर कहा है कि हम डरने वाले नहीं हैं। उन्होंने कहा कि यह कहना बेकार है कि यह ईडी या आईटी या सीबीआई द्वारा छापेमारी है, यह भाजपा की छापेमारी है। वे अब भाजपा के अधीन काम करते हैं, उनके कार्यालय भाजपा की लिपि से चलते हैं। आज (बिहार विधानसभा में) फ्लोर टेस्ट है और यहां क्या हो रहा है? इसका अंदाजा हो गया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हमारे डिप्टी सीएम ने कल बैठक में कहा था कि वे अब इस स्तर पर पहुंचेंगे। 24 घंटे भी नहीं लगे। वे और भी नीचे गिर गए। यह क्रोध क्या है? कि आपके हिसाब से सरकार नहीं चली? कि जनकल्याण के लिए गठबंधन को बदल दिया? पूरा मामला नौकरी के बदले जमीन मामले को लेकर है। पहले भी इस मामले को लेकर लगातार कार्रवाई होती रही है।  

इसे भी पढ़ें: बिहार में नीतीश सरकार के लिए आज ‘असली इम्तिहान’, स्पीकर का इस्तीफा से इनकार, JDU-BJP में वार-पलटवार

भाजपा की ओर से भी पलटवार किया गया है। बिहार भाजपा अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा कि भाजपा किसी को लगाती नहीं और किसी को फंसाती नहीं है। आज से डेढ़ साल पहले नीतीश कुमार ने खुद ही शिकायत की थी, जब बिस्कोमान में करोड़ों रुपए पकड़े जा रहे थे। तब बिहार सरकार ने संज्ञान में लिया था। उन्होंने कहा कि क्योंकि तब रुपयों के साथ एक गाड़ी पकड़ी गई थी। अब इन सब की जो परिणति होती है वह हो रही है। तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि जिस तरह से उन्होंने काम किया, उन्हें सजा भुगतनी होगी। इस दिन को क्यों चुना गया (राजद नेताओं पर छापेमारी के लिए) यह कुछ ऐसा है जो सीबीआई आपको बताएगी। बिहार विधानसभा एक संवैधानिक संस्था, एक मंदिर है। यहां जो कुछ भी होगा वह नियमानुसार किया जाएगा। वहीं, बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा द्वारा उनके खिलाफ सत्तारूढ़ महागठबंधन के विधायकों के अविश्वास प्रस्ताव के बावजूद इस्तीफा देने से इनकार करने के बीच, प्रदेश में नवगठित सरकार के विश्वास मत हासिल करने के लिए बुधवार को बुलाए गए सदन के विशेष सत्र के हंगामेदार रहने के आसार हैं। 

अन्य न्यूज़