राजस्थान में यूरिया की किल्लत के लिये केन्द्र सरकार जिम्मेदार: गहलोत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 24, 2018   16:09
राजस्थान में यूरिया की किल्लत के लिये केन्द्र सरकार जिम्मेदार: गहलोत

उन्होंने कहा, ''ऐसा लगता है कि यूरिया की राजस्थान और मध्य प्रदेश की रैक हरियाणा डायवर्ट कर दी गई, जिसके कारण किल्लत हुई। उन्हें मालूम था कि राज्य में चूंकि सरकार बदली है इसलिये बनावटी तकलीफ को जानबूझ कर पैदा किया गया।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य में यूरिया की किल्लत के लिये केन्द्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। गहलोत ने सोमवार को आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार ने मध्य प्रदेश और राजस्थान को मिलने वाली यूरिया की खेप को हरियाणा भेज दिया जिससे राजस्थान में इस बुवाई सीजन में यूरिया की किल्लत हो गयी। राजभवन में मंत्रिमंडल के शपथ ग्रहण समारोह के बाद संवाददाताओं से बातचीत में गहलोत ने कहा कि राज्य में कांग्रेस सरकार होने के कारण यूरिया की बनावटी समस्या पैदा की गई है और इसकी जांच की जा रही है।

उन्होंने कहा, 'ऐसा लगता है कि यूरिया की राजस्थान और मध्य प्रदेश की रैक हरियाणा डायवर्ट कर दी गई, जिसके कारण किल्लत हुई। उन्हें मालूम था कि राज्य में चूंकि सरकार बदली है इसलिये बनावटी तकलीफ को जानबूझ कर पैदा किया गया। इस प्रकार की हरकत की जांच की जा रही है। ' उन्होंने कहा कि अधिकारियों को किसी भी जिले में इस प्रकार की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़े इसके लिये निर्देश दिया गया है।

यह भी पढ़ें: राजस्थान सरकार के 13 कैबिनेट और 10 राज्य मंत्रियों ने शपथ ली

राजस्थान में यूरिया थानों में बंटने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आरोपों पर पलटवार करते हुए गहलोत ने कहा कि 2008 से 2013 तक कभी ऐसी कोई घटना नहीं हुई थी। मंत्रियों को विभागों के बंटवारे के प्रश्न पर गहलोत ने कहा कि पोर्टफोलियो बंटते ही पहली बैठक हो जायेगी। हमारी पहली कैबिनेट की बैठक में घोषणा पत्र को रखा जायेगा और उस पर काम शुरू करेंगे। उन्होंने कहा कि हमारी पहली डयूटी है कि राज्य में सुशासन को स्थापित करें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।