केन्द्र को सबरीमला श्रद्धालुओं की आस्था की रक्षा के लिए कानून लाना चाहिए: केरल सरकार

center-should-bring-legislation-to-protect-the-faith-of-sabarimala-devotees-government-of-kerala
राज्य सरकार ने यह अपील कोल्लम से सांसद एन के प्रेमचंद्रन द्वारा भगवान अयप्पा के मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध के लिए लोक सभा में एक निजी विधेयक लाने की कवायद की पृष्ठभूमि में की है।यह विधेयक इस सप्ताह लोक सभा में आ सकता है।

तिरुवनंतपुरम। केरल में माकपा की अगुवाई वाली एलडीएफ सरकार ने सबरीमला में स्थित भगवान अयप्पा की पूजा अर्चना के लिए आने वाले श्रद्धालुओं की आस्था की रक्षा के लिए केन्द्र से बुधवार को एक कानून बनाने की मांग की। दरअसल उच्चतम न्यायालय ने पिछले वर्ष सभी आयु वर्ग की महिलाओं को सबरीमला में प्रवेश की अनुमति देने वाला आदेश दिया था।

इसे भी पढ़ें: मोदी और राहुल की टिप्पणियों की जांच कर रहा है निर्वाचन आयोग

राज्य सरकार ने यह अपील कोल्लम से सांसद एन के प्रेमचंद्रन द्वारा भगवान अयप्पा के मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध के लिए लोक सभा में एक निजी विधेयक लाने की कवायद की पृष्ठभूमि में की है।यह विधेयक इस सप्ताह लोक सभा में आ सकता है।

इसे भी पढ़ें: सबरीमला में एलडीएफ सरकार ने सदियों पुरानी परंपरा तोड़ी: अमित शाह

देवस्वोम मंत्री कदाकमपल्ली सुंदरन ने यहां संवाददाताओं से कहा,‘‘सबरीमला का मुद्दा एक निजी विधेयक के रूप में केन्द्र सरकार के समक्ष आने वाला है।सब को पता है कि निजी विधेयक का भविष्य क्या होता है....।’’  उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति दोबारा नहीं आए यह सुनिश्चित करने के लिए राज्य भाजपा नेतृत्व को केन्द्र से एक कानून लाने और कानूनी संरक्षण सुनिश्चित करने की मांग करनी चाहिए।

इसे भी देखें-

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़