कोरोना से निपटने के लिये बंगाल की पूरी बकाया राशि का भुगतान करे केंद्र: ममता

Mamata
ममता ने एक ऑनलाइन कार्यकम में कोविड-19 से निपटने के लिये एक अगल कोष गठित करने की भी मांग की। इस कार्यक्रम के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश में कोविड-19 के नये जांच केंद्रों का उद्घाटन किया।
कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कोविड-19 महामारी से प्रभावी रूप से निपटने में राज्य की मदद के लिये सोमवार को केंद्र से सभी वित्तीय बकाये का भुगतान करने को कहा। ममता ने एक ऑनलाइन कार्यकम में कोविड-19 से निपटने के लिये एक अगल कोष गठित करने की भी मांग की। इस कार्यक्रम के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश में कोविड-19 के नये जांच केंद्रों का उद्घाटन किया। ममता ने यह भी कहा कि राज्य के आपदा राहत कोष से धन का उपयोग अम्फान चक्रवात के बाद पुनर्वास कार्यों में किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं केंद्र सरकार से राज्य के वित्तीय बकाये का फौरन भुगतान करने का अनुरोध करती हूं। हमें हमारा 53,000 करोड़ रुपये मिलना अभी बाकी है। यदि हम राज्य आपदा राहत कोष से सारे धन का उपयोग चक्रवात के बाद के राहत एवं पुनर्वास कार्यों के लिये करेंगे तो हम महामारी से कैसे लड़ पाएंगे।’’ 

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में लगा लॉकडाउन, आपातकालीन सेवाओं के अलावा सारी गतिविधियां बंद

ममता ने कहा, ‘‘महामारी से लड़ने के लिये अलग कोष की जरूरत है। मैं आपसे (प्रधानमंत्री से) इस पर गौर करने का अनुरोध करती हूं। ’’ गौरतलब है कि अम्फान चक्रवात पश्चिम बंगाल में 20 मई को आया था और इसने राज्य के कुछ हिस्सों में तबाही मचाई थी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़