टीके की बर्बादी पर केंद्र और राज्य सरकार आमने-सामने, बघेल बोले, गाइडलाइन से कम खराब हुई वैक्सीन

टीके की बर्बादी पर केंद्र और राज्य सरकार आमने-सामने, बघेल बोले, गाइडलाइन से कम  खराब हुई वैक्सीन

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि हमारे यहां भारत सरकार के गाइडलाइन से कम वैक्सीन खराब हुई है। जिसमें 45 वर्ष से उपर में 0.6% और 18-44 वर्ष में लगभग 0.8% है। केंद्र की गाइडलाइन 1.6% से हमारा आधे से भी कम है।

कोरोना वैक्सीन की बर्बादी के मुद्दे पर केंद्र और राज्य सरकार आमने-सामने है। वैक्सीन की बर्बादी पर केंद्र-राज्य के अलग दावे सामने आ रहे हैं। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र की तरफ से जारी आंकड़ो पर सवाल उठाते हुए कहा कोविन ऐप में जो रजिस्ट्रेशन नहीं करा रहे हैं उसे वे बोलते हैं कि वैक्सीन खराब हो गई है। हमारे यहां भारत सरकार के गाइडलाइन से कम वैक्सीन खराब हुई है। जिसमें 45 वर्ष से उपर में 0.6% और 18-44 वर्ष में लगभग 0.8% है। केंद्र की गाइडलाइन 1.6% से हमारा आधे से भी कम है।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन से डरे नहीं, जानिए इससे संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

इसके साथ ही भूपेश बघेल ने कहा कि मैंने आज वैक्सीन की दूसरी डोज ली। जिन्होंने पहला डोज ले लिया है वे दूसरी डोज़ अवश्य लें, उनके लिए वैक्सीन की कोई कमी नहीं है। कोरोना 5% से कम हो चुका है। जनजीवन सामान्य करने की कोशिश कर रहे हैं। कोरोना के नियमों का पालन करना बहुत ज़रूरी है।  गौरतलब है कि केंद्र सरकार की तरफ से जारी रिपोर्ट में कहा गया था कि क्सीन की बर्बादी के मामले में 30.2 प्रतिशत के साथ छत्तीसगढ़ दूसरे स्थान पर है। लेकिन, छत्तीसगढ़ सरकार का कहना है कि प्रदेश में अभी की स्थिति में सिर्फ 0.95% टीके ही खराब हुए हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।