किसी भी राज्य में किसी भी भाषा को नहीं थोपा जायेगा: सरकार

centre-committed-to-promoting-all-indian-languages-equally-hrd-minister
हिंदी को तीसरी भाषा के रूप में शामिल कर सभी राज्यों के लोगों को हिंदी भाषा सीखने के लिये बाध्य करने पर सरकार द्वारा विचार करने के सवाल के जवाब में मंत्री ने कहा, ‘‘किसी भी राज्य में किसी भी भाषा को नहीं थोपा जायेगा।''''

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने नयी शिक्षा नीति के प्रारूप में हिंदी को तीसरी भाषा के रूप में शामिल कर सभी राज्यों के लोगों को हिंदी भाषा सीखने के लिये बाध्य करने की आशंकाओं को खारिज करते हुये कहा है कि किसी भी राज्य में किसी भी भाषा को नहीं थोपा जायेगा। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने बृहस्पतिवार को राज्यसभा में प्रश्नकाल के दौरान बताया कि सरकार सभी भारतीय भाषाओं के समान विकास और संवर्धन के लिये प्रतिबद्ध है।

इसे भी पढ़ें: केरल में तेजी से आगे बढ़ रही है हिंदी, राजभाषा का भविष्य यकीनन उज्ज्वल है

उन्होंने नयी शिक्षा नीति के प्रारूप में हिंदी को तीसरी भाषा के रूप में शामिल कर सभी राज्यों के लोगों को हिंदी भाषा सीखने के लिये बाध्य करने पर सरकार द्वारा विचार करने के सवाल के जवाब में कहा, ‘‘किसी भी राज्य में किसी भी भाषा को नहीं थोपा जायेगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘डॉ. के. कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता में राष्ट्रीय शिक्षा नीति का मसौदा तैयार करने हेतु गठित समिति ने मंत्रालय को गत 31 मई को मसौदा सौंप दिया है। इस पर सभी पक्षों से सुझाव मांगने के लिये सार्वजनिक कर दिया गया है। इस पर 31 जुलाई तक सुझाव मिलने के बाद इन पर विचार विमर्श कर इस नीति को लागू किया जायेगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़