चाट के चक्कर में जमकर चले लाठी-डंडे, फिर ट्रेंड करने लगे 'आइंस्टीन' लुक वाले ये चाचा

चाट के चक्कर में जमकर चले लाठी-डंडे, फिर ट्रेंड करने लगे 'आइंस्टीन' लुक वाले ये चाचा

अलग-अलग चाट दुकानदार ग्राहकों को अपनी तरफ बुला रहे थे। कोई कह रहा था कि मेरी दुकान पर आइए तो कोई कह रहा था कि हमारा चाट सबसे बेहतर है। इसी दौरान आपस में बहस शुरू हुई जो देखते ही देखते मारपीट में तब्दील हो गई। लात-घूंसे एक दूसरे पर बरसने लगे।

उत्तर प्रदेश के बागपत में चाट के चक्कर में ऐसा गदर मचा कि सब देखते रह गए। मारपीट तो आपने बहुत देखी होगी लेकिन ऐसी मारपीट आपने कम ही देखी होगी जब बीच बाजार एक-दूसरे पर डंडे बरसाते दुकानदार। कोई नीचे गिर रहा है तो किसी पर जमकर डंडे बरस रहे हैं। दरअसल, उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के बड़ौत की है जहां पर दो गुटों में बहस के बाद दोनों तरफ के समर्थक एक-दूसरे पर जमकर लाठियां चलाने लगे। 

भयंकर मारपीट के पीछे की कहानी

खबरों के अनुसार अलग-अलग चाट दुकानदार ग्राहकों को अपनी तरफ बुला रहे थे। कोई कह रहा था कि मेरी दुकान पर आइए तो कोई कह रहा था कि हमारा चाट सबसे बेहतर है। इसी दौरान आपस में बहस शुरू हुई जो देखते ही देखते मारपीट में तब्दील हो गई। लात-घूंसे एक दूसरे पर बरसने लगे। जिसके हाथ में जो लगा वो उसी को लेकर एक-दूसरे की धुनाई करने में लग गया। 

इसे भी पढ़ें: दिशा रवि को लेकर अनिल विज के ट्वीट को हटाने से ट्विटर का इनकार, कहा- दिशा-निर्देश का नहीं हुआ उल्लंघन

हरेंद्र VS नरेंद्र

हरेंद्र 40 साल से शिव चाट की दुकान चला रहा है। लेकिन कुछ समय पहले नरेंद्र ने दुर्गा चाट भंडार नाम से दुकान खोल ली। हरेंद्र का आरोप है कि जैसे ही कोई ग्राहक उनकी दुकान पर आता है। नरेंद्र और उसके कारिगर उसे अपनी तरफ खींच लेते हैं। बीते दिनों भी दोनों दुकानदारों में इसी बात को लेकर बहस हुई और बहस के बाद संग्राम की नौबत आ गई। 

 चाचा का आइंस्टीन लुक

बागपत में चाट दुकानदारों के बीच छिड़ी जंग के बाद इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए और इसको लेकर मीम्स भी वायरल हो रहे हैं। वीडियो में नजर आए चाचा को लोग हीरो बता रहे हैं तो उनके हेयरस्टाइल की तुलना साइंटिस्ट अलबर्ट आइंस्टीन से कर रहे हैं। चाचा का क्रेज इतना बढ़ गया कि #Chahcha ट्रेंड करने लगा। ट्विटर पर ट्रेंड होने वाले चाचा का नाम हरेंद्र है। उन्होंने कहा कि वो साईं बाबा के भक्त हैं और पूजा करते हैं। उन्होंने कहा कि वे अपने बालों को हरिद्वार में बहाते हैं और दो साल में एक बार ही बालों को कटवाते हैं।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।