चंपावत उपचुनाव पर बोले पुष्कर सिंह धामी, आने वाले समय में यह क्षेत्र बनाएगा विकास का नया इतिहास

चंपावत उपचुनाव पर बोले पुष्कर सिंह धामी, आने वाले समय में यह क्षेत्र बनाएगा विकास का नया इतिहास
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि इस क्षेत्र में कैलाश गहतोड़ी के तमाम विकास कार्यों को हम और तेजी से आगे बढ़ाएंगे। हम नए आयाम स्थापित करेंगे। मैं संकल्पबद्ध होकर यह कहना चाहता हूं कि यह क्षेत्र आने वाले समय में विकास का नया इतिहास बनाएगा। हालही में संपन्न हुए विधानसभा में मुख्यमंत्री खटीमा से चुनाव हार गए थे।

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी चंपावत सीट से विधानसभा उपचुनाव लड़ने वाले हैं। इसको लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की प्रदेश इकाई में जोरो-शोरो से तैयारियां चल रही हैं। आपको बता दें कि चंपावत से पूर्व विधायक कैलाश चंद्र गहतोड़ी ने सीट खाली करने के बाद उपचुनाव की तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसी बीच मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का बयान सामने आया है। 

इसे भी पढ़ें: असंवैधानिक है समान नागरिक संहिता, मुस्लिम इसे नहीं मानेंगे, मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने UCC को लेकर दी ये चेतावनी 

विकास का नया इतिहास बनाएगा चंपावत

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि इस क्षेत्र में कैलाश गहतोड़ी के तमाम विकास कार्यों को हम और तेजी से आगे बढ़ाएंगे। हम नए आयाम स्थापित करेंगे। मैं संकल्पबद्ध होकर यह कहना चाहता हूं कि यह क्षेत्र आने वाले समय में विकास का नया इतिहास बनाएगा।

इसी बीच मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कोरोना महामारी का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि हमारे यहां 87 लोग अभी पॉजीटिव हैं। कोरोना के खिलाफ हमारी सारी व्यवस्थाएं पूरी हैं। अस्पतालों में बेड दोबारा से रिज़र्व किए जा रहे हैं। सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट, कंसंट्रेटर आदि की व्यवस्था है। 

इसे भी पढ़ें: Uniform Civil Code: CM धामी बोले- समान नागरिक संहिता लागू करने वाला देश में उत्तराखंड पहला राज्य होगा 

हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों में भाजपा ने उत्तराखंड विधानसभा की 70 में से 47 सीटें जीतकर प्रदेश में लगातार दूसरी बार सत्ता में आने का इतिहास रचा लेकिन जीत की अगुवाई करने वाले पुष्कर सिंह धामी को खटीमा सीट से हार का सामना करना पड़ा। ऐसे में पुष्कर सिंह धामी को मुख्यमंत्री के पद पर बने रहने के लिए छह महीने के भीतर निर्वाचित होना पड़ेगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।