भीषण चक्रवात आसनी के बीच समुद्र में बहते हुए मिला सोने का रथ, यहां देखें वीडियो

भीषण चक्रवात आसनी के बीच समुद्र में बहते हुए मिला सोने का रथ, यहां देखें वीडियो
ANI

स्थीनय निवासियों ने कहा कि रथ, एक मठ के हिस्से जैसा दिखाई देता है, जिसके बारे में संदेह है कि चक्रवात आसनी के कारण सोने की मठ दूर दक्षिण पूर्व एशियाई देश से बह कर आया है। बताया जा रहा है कि यह रथ म्यांमार, मलेशिया या थाईलैंड से बहकर यहां पहुंचा है।

आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले के सुन्नापल्ली तट पर एक सोने के रंग का रथ जैसा ढांचा पाया गया है। स्थानीय मछुआरों के अनुसार, सोने के रंग की परत चढ़ा एक खूबसूरत रथ चक्रवात आसनी के कारण उच्च ज्वार की लहरों से बहकर आया है। स्थीनय निवासियों ने कहा कि रथ, एक मठ के हिस्से जैसा दिखाई देता है, जिसके बारे में संदेह है कि चक्रवात आसनी के कारण सोने की मठ दूर दक्षिण पूर्व एशियाई देश से बह कर आया है। बताया जा रहा है कि यह रथ म्यांमार, मलेशिया या थाईलैंड से बहकर यहां पहुंचा है।

इसे भी पढ़ें: शराब का नशा होगा डबल! दिल्ली वालों के लिए VIP ठेके खोलने जा रही हैं केजरीवाल सरकार

हालांकि, संताबोम्मली तहसीलदार जे चलमैय्या ने इस बात से इनकार किया है। उन्होंने द टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि रथ का इस्तेमाल भारतीय तट पर फिल्म की शूटिंग के लिए किया गया होगा और उच्च ज्वार के कारण यह समुद्र से बहते हुए श्रीकाकुलम आ गया।पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच जारी है। इस बीच, पूरे क्षेत्र में सोने से रंगे रथ के मिलने की खबर फैलने के बाद, पड़ोसी गांवों के लोग भी रथ की एक झलक पाने के लिए श्रीकाकुलम पहुंचे।

इसे भी पढ़ें: हरियाणा बोर्ड की इतिहास की किताब पर विवाद, लिखा- कांग्रेस की तुष्टिकरण नीति विभाजन के कारणों में से एक

जानकारी के लिए बता दें कि आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों में लगातार बारिश हो रही है क्योंकि चक्रवात आसनी समुद्र तट के पास है। एएनआई के अनुसार, भारत मौसम विज्ञान विभाग ने भविष्यवाणी की है कि चक्रवात अगले कुछ घंटों के लिए लगभग उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ सकता है और आंध्र प्रदेश तट के करीब पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी तक पहुंच सकता है। काकीनाडा में भी समुद्र अशांत बना हुआ है, जहां चक्रवात आसनी के संभावित लैंडफॉल होने की संभावना है। आईएमडी ने गुंटूर, कृष्णा, विशाखापत्तनम, पश्चिम और पूर्वी गोदावरी तट सहित स्थानों के लिए भी रेड अलर्ट की चेतावनी जारी कर दी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...