CM सोरेन ने सहकारी बैंक में वित्तीय अनियमितता की जांच ACB से कराने के दिये निर्देश

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 29, 2020   08:34
CM सोरेन ने सहकारी बैंक में वित्तीय अनियमितता की जांच ACB से कराने के दिये निर्देश

कृषि, पशुपालन और सहकारिता विभाग ने झारखंड राज्य सहकारी बैंक की रांची और सरायकेला शाखा में गबन का मामला सामने आने पर तत्कालीन निबंधक, सहयोग समितियों और विभागीय सचिव के संयुक्त जांच दल का गठन किया था। जांच दल ने इस मामले में दोषी पदाधिकारियों और कर्मियोंके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया था।

रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने झारखंड राज्य सहकारी बैंक की रांची शाखा और सरायकेला शाखा में वित्तीय अनियमितता और 15 करोड़ रुपये से अधिक की राशि के गबन और दुरुपयोग मामले की जांच भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) से कराने के निर्देश दिये हैं। आधिकारिक प्रवक्ता ने यहां बताया कि मुख्यमंत्री ने वित्तीय अनियमितता के इस मामले में जांच कर दोषी कर्मियों पर कानूनी कार्रवाई करने का आदेश दिया है। बैंक की रांची शाखा में अनियमितता के इस मामले में वित्त विभाग के विशेष अंकेक्षण में 9, 98, 21,155 रुपए के गबन की बात सामने आयी है। वहीं बैंक की सरायकेला शाखा में 5.22 करोड़ रुपए के वित्तीय गबन की पुष्टि हुई है। 

इसे भी पढ़ें: छात्रों की मेहनत का श्रेय मुख्यमंत्री ले रहे हैं, यह अत्यंत शर्मनाक: भाजपा

कृषि, पशुपालन और सहकारिता विभाग ने झारखंड राज्य सहकारी बैंक की रांची और सरायकेला शाखा में गबन का मामला सामने आने पर तत्कालीन निबंधक, सहयोग समितियों और विभागीय सचिव के संयुक्त जांच दल का गठन किया था। जांच दल ने इस मामले में दोषी पदाधिकारियों और कर्मियोंके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया था। सूत्रों के अनुसार इस मामले में लाल मनोजनाथ शाहदेव, तत्कालीन जिला सहकारिता पदाधिकारी,चाईबासा एवं जयदेव प्रसाद सिंह,तत्कालीन महाप्रबंधक, झारखंड राज्य सहकारी बैंक लिमिटेड तथा राम कुमार प्रसाद, तत्कालीन प्रबंध निदेशक, देवघर-जामताड़ा सहकारी बैंक को निलंबित कर दिया गया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।