CM अमरिंदर ने अनुसूचित जाति के विद्यार्थियों के लिए शुरू की छात्रवृत्ति योजना

CM Amarinder
डिजिटल तरीके से वाल्मीकि जयंती समारोह में शामिल हुए अमरिंदर सिंह ने राम तीरथ आईटीआई परिसर का उद्घाटन किया और दलित विद्यार्थियों के प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने के लिए कौशल विकास केंद्र की स्थापना करने की मंजूरी दी।

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शनिवार को अनुसूचित जाति के विद्यार्थियों के लिए पोस्ट मैट्रिक (10वीं की पढ़ाई के बाद) छात्रवृत्ति योजना की शुरुआत की। मुख्यमंत्री ने वाल्मीकि जयंती के अवसर पर अमृतसर के राम तीरथ में 50 करोड़ रुपये की योजनाओं की आधारशिला भी रखी। आधिकारिक बयान के मुताबिक डिजिटल तरीके से वाल्मीकि जयंती समारोह में शामिल हुए अमरिंदर सिंह ने राम तीरथ आईटीआई परिसर का उद्घाटन किया और दलित विद्यार्थियों के प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने के लिए कौशल विकास केंद्र की स्थापना करने की मंजूरी दी। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब के लिये करो या मरो का, चेन्नई के लिये प्रतिष्ठा का मुकाबला

बयान के मुताबिक ‘डॉ.बीआर आम्बेडकर पोस्ट मैट्रिक एससी छात्रवृत्ति योजना की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे सुनिश्चित होगा कि गरीब छात्रों को मुफ्त में उच्च शिक्षा मिले, जो केंद्र द्वारा राज्य को दी जाने वाली 800 करोड़ रुपये की सहायता वापस लेने से वंचित हो गए थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार अनुसूचित जाति के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि यह योजना केंद्र के बिना किसी योगदान शुरू की गई है और इसके जरिये अनुसूचित जाति के विद्यार्थियों को शुल्क में शत प्रतिशत छूट दी जाएगी। योजना से हर साल अनुसूचित जाति के तीन लाख विद्यार्थियों को लाभ मिलने की उम्मीद है और उन्हें सरकारी और निजी संस्थानों में पढ़ाई के दौरान कोई शुल्क नहीं देना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी के बदले संस्थान अनुसूचित जाति के विद्यार्थियों को निशुल्क शिक्षा देंगे। इसके साथ ही उन्होंने घोषणा की कि विद्यार्थियों को किताबें और वर्दी खरीदने के लिए मासिक भत्ता भी मिलेगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़