उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश के बाद हालात गंभीर, मुख्यमंत्री धामी ने किया हवाई दौरा, बोले- धैर्य रखें

उत्तराखंड में मूसलाधार बारिश के बाद हालात गंभीर, मुख्यमंत्री धामी ने किया हवाई दौरा, बोले- धैर्य रखें

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि सभी लोगों से अनुरोध है कि इस स्थिति में धैर्य बनाकर रखें। हम हर संभव मदद करने के लिए तैयार हैं। प्रधानमंत्री ने हर संभव मदद का आश्वासन दिया है। मौसम विभाग ने बताया है कि आज देर रात तक मौसम ठीक हो जाएगा, बाद में स्थिति सामान्य हो जाएगी।

देहरादून। उत्तराखंड के कुमाऊं समेत अन्य क्षेत्रों में हुई मूसलाधार बारिश की वजह से मंगलवार को 11 और लोगों की मौत हो गई। इसी बीच मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मूसलाधार बारिश से प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। बाद में उन्होंने रुद्रप्रयाग पहुंचकर नुकसान के आकलन की समीक्षा भी की। इस दौरान मुख्यमंत्री धामी के साथ राज्य के मंत्री धन सिंह रावत और डीजीपी अशोक कुमार भी मौजूद रहे। 

इसे भी पढ़ें: नैनीताल में फटा बादल, चारधाम यात्रा ठप! आफत की बारिश ने उत्तर से दक्षिण भारत तक मचाया कहर 

हर संभव मदद के लिए तैयार

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि सभी लोगों से अनुरोध है कि इस स्थिति में धैर्य बनाकर रखें। हम हर संभव मदद करने के लिए तैयार हैं। प्रधानमंत्री ने हर संभव मदद का आश्वासन दिया है। मौसम विभाग ने बताया है कि आज देर रात तक मौसम ठीक हो जाएगा, बाद में स्थिति सामान्य हो जाएगी।

अबतक 16 लोगों की हुई मौत

आपको बता दें कि मूसलाधार बारिश की वजह से मंगलवार को 11 लोगों की मौत हो गई। इसी के साथ मृतकों की संख्या बढ़कर 16 हो गई। जबकि नैनीताल में बादल फटने और भूस्खलनों के बाद कई लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका जताई जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी ने राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास से की मुलाकात 

बारिश में फंसे गुजरात के तीर्थयात्री

गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने अपने समकक्ष धामी से फोन पर बातचीत की और बारिश में फंसे गुजरात के 100 तीर्थयात्रियों के लिए हरसंभव सहायता मुहैया कराने का अनुरोध किया। वहीं मुख्यमंत्री धामी ने चारधाम यात्रियों से अपील की है कि वे जहां हैं, वहीं रुक जाएं और मौसम में सुधार होने से पहले अपनी यात्रा शुरू न करें।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।