CM गहलोत ने कहा- राजस्थान में डेयरी क्षेत्र को देंगे बढ़ावा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 28, 2020   18:30
CM गहलोत ने कहा- राजस्थान में डेयरी क्षेत्र को देंगे बढ़ावा

अशोक गहलोत शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए भीलवाड़ा जिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ के करीब 75 करोड़ रुपये की लागत से बनाए जाने वाले आधुनिक दुग्ध प्रसंस्करण संयंत्र के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को कहा कि सरकार राज्य में डेयरी क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए जिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघों को पूरा प्रोत्साहन देगी। उन्होंने कहा कि कृषि व पशुपालन ग्रामीण क्षेत्र में आजीविका का मुख्य आधार है और युवाओं को रोजगार के अधिक से अधिक अवसर उपलब्ध हों इसके लिए डेयरी क्षेत्र को मजबूत करने के लिए हरसंभव कदम उठाए जाएंगे। गहलोत शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए भीलवाड़ा जिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ के करीब 75 करोड़ रुपये की लागत से बनाए जाने वाले आधुनिक दुग्ध प्रसंस्करण संयंत्र के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे। अगस्त 2022 तक तैयार होने वाले इस संयंत्र की क्षमता पांच लाख लीटर प्रतिदिन होगी।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान में कोरोना संक्रमण के 557 नये मामले, कुल मामलों की संख्या 76,572 हुई

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को उनकी फसलों का लाभकारी मूल्य दिलवाने तथा आर्थिक रूप से सशक्त करने के लिए राज्य सरकार खाद्य प्रसंस्करण पर विशेष जोर दे रही है। उन्होंने कहा, ‘‘प्रदेश में डेयरी क्षेत्र के विस्तार की भरपूर संभावनाएं हैं। हमारा प्रयास होगा कि दुग्ध उत्पादन, संकलन एवं विपणन का काम और तेजी से हो। सरस डेयरी देश में एक बड़ा मुकाम हासिल करे।’’ गहलोत ने कहा कि देश में सहकारिता आंदोलन को मजबूत करने में पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का बड़ा योगदान रहा है। कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने कहा कि कोरोना महामारी के इस समय में किसान एवं पशुपालक देश-प्रदेश की अर्थव्यवस्था को मजबूती दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि खेती एवं पशुपालन के परम्परागत क्षेत्र में युवाओं की बढ़ती रुचि अच्छा संकेत है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...