UP में 22 करोड़ से अधिक वृक्ष लगाए गए, योगी बोले- वन है तो जल है, जल है तो कल है

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Aug 9 2019 7:09PM
UP में 22 करोड़ से अधिक वृक्ष लगाए गए, योगी बोले- वन है तो जल है, जल है तो कल है
Image Source: Google

परेड ग्राउंड पर पौध वितरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि आज शाम तक पूरे राज्य में 22 करोड़ से अधिक वृक्ष लगाए जा चुके हैं।

प्रयागराज। उत्तर प्रदेश में शुक्रवार को 22 करोड़ से अधिक वृक्षारोपण कीर्तिमान स्थापित किए जाने के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कहा कि वन है तो जल है और जल है तो कल यानी जीवन है। इसलिए राज्य सरकार वृक्षारोपण को एक आंदोलन का रूप देने को संकल्पबद्ध है। यहां परेड ग्राउंड पर पौध वितरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि आज शाम तक पूरे राज्य में 22 करोड़ से अधिक वृक्ष लगाए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश में एक एक जगह वृक्ष लगाने की जो कार्रवाई हो रही है, उसे डिजिटल मैपिंग से हमने जोड़ा हुआ है। इसके साथ ही जियो टैगिंग की भी व्यवस्था की है।

इसे भी पढ़ें: योगी का बड़ा फैसला, वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये होगी सभी कैदियों की पेशी

भारत छोड़ो आंदोलन की 77वीं वर्षगांठ के मौके पर आयोजित इस कार्यक्रम में योगी आदित्यनाथ ने कहा कि चुनाव में जिस तरह सेक्टर और जोनल स्तर पर मजिस्ट्रेट नियुक्त किए जाते हैं, उसी तरह हमने पूरे प्रदेश में सेक्टर, जोनल स्तर पर वृक्षारोपण की जिम्मेदारी दी है और जवाबदेही तय की है। अगले साल उत्तर प्रदेश में 25 करोड़ वृक्ष लगाने का लक्ष्य रखा गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में आज तीन रिकार्ड बनने जा रहे हैं। पहला रिकार्ड, प्रथम एक घंटे में सुबह 9 से 10 बजे के बीच में पांच करोड़ वृक्षों का रोपण पूरे राज्य में एक साथ हुआ। दूसरा रिकार्ड प्रदेश के अंदर एक स्थान पर महामहिम राज्यपाल महोदया के सानिध्य में कासगंज में 1,01,000 वृक्षों का रोपण किया गया। तीसरा रिकार्ड प्रयागराज में एक निश्चित समय में 66,000 पौधों का वितरण किया गया।

इसे भी पढ़ें: फाइल तीन दिन से अधिक रुकी तो तय होगी जवाबदेही: योगी आदि‍त्यनाथ



योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमने वन विभाग को कहा है कि 100 वर्ष से अधिक पुराने वृक्षों को हेरिटेज ट्री घोषित करके उनके कटान को पूरी तरह से निषिद्ध करने की व्यवस्था करें। प्रयागराज का अक्षयवट इनमें से एक है। इसी तरह से बाराबंकी में 5000 साल पुराना कल्पवृक्ष मौजूद है। इस बीच गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड की ओर से स्वप्निल डांगरेकर ने प्रयागराज में 66,000 पौधों के वितरण का विश्व रिकार्ड बनाए जाने की औपचारिक घोषणा की।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video