निजी अस्पताल को अपेक्षित जरूरी दवाएं, उपकरण सीएमओ उपलब्ध कराएंगे: यूपी सरकार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2021   15:20
निजी अस्पताल को अपेक्षित जरूरी दवाएं, उपकरण सीएमओ उपलब्ध कराएंगे: यूपी सरकार

उत्तर प्रदेश सरकार ने कोविड-19 के मरीजों का उपचार कर रहे सभी निजी अस्पतालों को अपने यहां भर्ती मरीजों के उचित इलाज के लिए अपेक्षित दवाओं एवं उपकरणों की आवश्यकता पड़ने पर मुख्य चिकित्साधिकारी को सूचित करने का निर्देश दिया है।

मथुरा। उत्तर प्रदेश सरकार ने कोविड-19 के मरीजों का उपचार कर रहे सभी निजी अस्पतालों को अपने यहां भर्ती मरीजों के उचित इलाज के लिए अपेक्षित दवाओं एवं उपकरणों की आवश्यकता पड़ने पर मुख्य चिकित्साधिकारी को सूचित करने का निर्देश दिया है। राज्य सरकार के प्रवक्ता और ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री श्रीकांत शर्मा ने इस बारे में बताया। शर्मा ने ‘भाषा’ से फोन पर हुई बातचीत में कहा, ‘‘राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए दवाओं एवं उपकरणों की कोई कमी नहीं है। यह सब स्थिति कालाबाजारी करने वालों की बनाई हुई है।’’

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना संक्रमित अशोक गहलोत, उनकी पत्नी के जल्द स्वस्थ होने की कामना की

उन्होंने कहा, ‘‘जिस रेमडेसिविर इंजेक्शन के बारे में दुष्प्रचार किया जा रहा है वह निश्चित तौर सीमित मात्रा में उपलब्ध हैं, लेकिन राज्य सरकार ने हर जिले की स्थिति के अनुसार कोटा तय किया है और वहां के मुख्य चिकित्साधिकारी वास्तविक मांग के मुताबिक उक्त इंजेक्शन उपलब्ध करा रहे हैं।’’ मंत्री ने बताया, ‘‘दूसरी ओर, इंजेक्शन की कालाबाजारी से जुड़े लोग मोटा पैसा कमाना चाह रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: उद्धव ठाकरे ने केंद्र से कहा, कोविड-19 को राष्ट्रीय आपदा घोषित करें

इस समस्या के निदान के लिए कोविड-19 रोगियों के उपचार में जुटे सभी निजी अस्पतालों को कहा गया है कि वे सीएमओ को आवश्यक इंजेक्शनों की सूची उपलब्ध कराएं जिसके बाद सीएमओ अपने कोटे के अनुसार उन्हें इंजेक्शन जारी कर देंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।