कॉलेजियम की लिस्ट जारी ,सुप्रीम कोर्ट के लिए जिन महिला जजों के नाम को मिली मंजूरी, जानें उनके बारे में सबकुछ

कॉलेजियम की लिस्ट जारी ,सुप्रीम कोर्ट के लिए जिन महिला जजों के नाम को मिली मंजूरी, जानें उनके बारे में सबकुछ

सुप्रीम कोर्ट में वर्तमान में जजों की संख्या 24 है जो कि जजों की स्वीकृत संख्या 34 से 10 कम है ।राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की सिफारिश को मंजूरी दे दी है।

कॉलेजियम की लिस्ट जारी ,सुप्रीम कोर्ट के लिए तीन महिला जजों के नाम की सिफारिशसुप्रीम कोर्ट में नौ जजों की नियुक्ति को लेकर राष्ट्रपति ने मुहर लगा दी है। सुप्रीम कोर्ट में वर्तमान में जजों की संख्या 24 है जो कि जजों की स्वीकृत संख्या 34 से 10 कम है ।राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सुप्रीम कोर्ट  कॉलेजियम की सिफारिश  को मंजूरी दे दी है। इसमें सुप्रीम कोर्ट में जजों की नियुक्ति के लिए 9 नाम भेजे गए थे। राष्ट्रपति कोविंद ने सभी नौ जजों की नियुक्ति का नोटिफिकेशन जारी कर दिया है।

इसमें अभी 24 जज कामकाज देख रहे हैं ।9 जजों के आने के बाद भी एक सीट खाली रहेगी। नामों में जस्टिस बी वी नागरतना का नाम भी शामिल है जिनके लिए भारत की पहली महिला चीफ जस्टिस बनने का रास्ता साफ हो गया है।

सभी नौ जजों के  नामों की  बात करें  तो इनमें कर्नाटक हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के एस ओका ,गुजरात हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस विक्रम नाथ सिक्किम हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस जे केश्वरी , तेलंगाना हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस हीमा कोहली ,कर्नाटका हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस बी बी ागरथ ना, केरल हाई कोर्ट के जज जस्टिस सिटी रवि कुमार ,मद्रास हाई कोर्ट जज स्टिस एमएम Sundresh, गुजरात हाईकोर्ट के जज बेला  त्रिवेदी और सीनियर एडवोकेट पीएस नरसिम्हा शामिल हैं।

 पिछले 2 सालों में जजों की नियुक्ति की बात करें तो कुल संख्या में सबसे कम जज अभी कार्यरत हैं ।इन 9 जजों की नियुक्ति से सुप्रीम कोर्ट को काफी राहत मिलेगी ।सभी नए जजों को सीजेआई एन वी रमना 31 अगस्त को वरिष्ठता के आधार पर सुबह 10:30 बजे से शपथ दिलाएंगे ।

इन नामों में तीन महिलाएं भी शामिल हैं जस्टिस बी वी नागरतना , जस्टिस हिमा कोहली  और जस्टिस बेला त्रिवेदी। बीजू जनता दल में केंद्रपाड़ा सीट से लोकसभा सांसद अनुभव मोहंती ने नौ जजों में तीन महिला जजों की होने पर खुशी जाहिर की है।

वे अपने राज्यसभा सांसद होने के दौरान संसद में सुप्रीम कोर्ट में महिला जजों की नियुक्ति का मुद्दा भी उठा चुके हैं ,साथ ही उन्होंने संसद में महिलाओं के आरक्षण का सुझाव भी दिया था। इसके साथ ही पूरे  देश में भी महिलाओं की नियुक्ति पर खुशी जाहिर की गई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।