शरद पवार ने अलापा 'पाकिस्तान राग', बोले- पड़ोसी मुल्क के आम लोग हमारे विरोधी नहीं

शरद पवार ने अलापा 'पाकिस्तान राग', बोले- पड़ोसी मुल्क के आम लोग हमारे विरोधी नहीं
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि मेरा व्यक्तिगत अनुभव है कि पाकिस्तान के आम लोग हमारे विरोधी नहीं हैं। जो राजनीति करना चाहते हैं और सेना की मदद से सत्ता पर नियंत्रण रखना चाहते हैं, वे संघर्ष और नफरत का पक्ष लेते हैं। लेकिन अधिकांश लोग पाकिस्तान में शांतिपूर्ण माहौल बनाना चाहते हैं।

मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार का पाकिस्तान राग सामने आया है। उन्होंने पड़ोसी मुल्क के लोगों की जमकर तारीफ करते हुए कहा कि पाकिस्तान के आम लोग हमारे विरोधी नहीं हैं और वहां के अधिकांश लोग शांतिपूर्ण माहौल बनाना चाहते हैं। हालांकि कुछ लोग हैं जो नफरत फैलाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: लोगों को विकास, रोजगार चाहिए, नफरत नहीं : शरद पवार 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि मेरा व्यक्तिगत अनुभव है कि पाकिस्तान के आम लोग हमारे विरोधी नहीं हैं। जो राजनीति करना चाहते हैं और सेना की मदद से सत्ता पर नियंत्रण रखना चाहते हैं, वे संघर्ष और नफरत का पक्ष लेते हैं। लेकिन अधिकांश लोग पाकिस्तान में शांतिपूर्ण माहौल बनाना चाहते हैं।

कविता के सहारे भाजपा पर बरसे पवार

इससे पहले शरद पवार ने कविता के माध्यम से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि वह एक कविता की पंक्तियां पेश कर रहे हैं जो कामगार वर्ग की पीड़ा को उजागर करती हैं, लेकिन जो गलत सूचनाएं फैलाना चाहते हैं वे इसके लिए स्वतंत्र हैं। उन्होंने कहा था कि वह राठौर की कविता पत्थरवत (स्टोन-कटर) की कुछ पंक्तियां पढ़ रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: महंगाई और बेरोजगारी पर लगाम लगाने में पूरी तरह से नाकाम रही केंद्र सरकार : शरद पवार 

इस कविता में मूर्तिकार कहता है कि उसने अपनी छेनी से भगवान ब्रह्मा, विष्णु और महेश की मूर्तियां बनाई हैं और उन्हें मंदिर में प्राण प्रतिष्ठित किया गया है लेकिन वह स्वंय मंदिर में नहीं जा सकता क्योंकि वह पिछड़ी जाति से है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...