साइबर हमलों से सावधान करने के लिए विशेषज्ञ ने किया वेबिनार, कहा- कंपनियों को सुरक्षा नीतियों को मजबूत करने की जरूरत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 27, 2020   20:37
साइबर हमलों से सावधान करने के लिए विशेषज्ञ ने किया वेबिनार, कहा- कंपनियों को सुरक्षा नीतियों को मजबूत करने की जरूरत

इंटरनेशनल कमीशन आन साइबर सिक्योरिटी लॉ के संस्थापक एवं चेयरमैन डॉ दुग्गल ने कहा कि जबकि कंपनियां अपने कर्मचारियों को घर से काम करने की सुविधा दे रही हैं, ऐसे में उन्हें अपनी सुरक्षा नीति मजबूत करने की आवश्यकता है।

नयी दिल्ली। साइबर विशेषज्ञ पवन दुग्गल ने एक वेबिनार में कहा कि कंपनियां अपने कर्मचारियों को घर से काम करने की सुविधा दे रही हैं, लेकिन ऐसे में उन्हें अपनी सुरक्षा नीतियों को मजबूत करने की जरूरत है। उन्होंने पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा आयोजित एक वेबिनार में यह बात कही। वेबिनार का आयोजन कोविड-19 महामारी के दौरान साइबर हमलों से सावधान करने के लिए किया गया था। इंटरनेशनल कमीशन आन साइबर सिक्योरिटी लॉ के संस्थापक एवं चेयरमैन डॉ दुग्गल ने कहा कि जबकि कंपनियां अपने कर्मचारियों को घर से काम करने की सुविधा दे रही हैं, ऐसे में उन्हें अपनी सुरक्षा नीति मजबूत करने की आवश्यकता है ताकि वे साइबर हमलों का शिकार ना बनें। 

इसे भी पढ़ें: दिग्विजय सिंह ने साइबर सेल में दर्ज कराई शिकायत, फर्जी अकाउंट बनाकर आपत्तिजनक पोस्ट डालने का है मामला 

उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि साइबर सुरक्षा कानून राष्ट्रीय कानून का एक हिस्सा होना चाहिए। पीएचडी उद्योगमंडल की शनिवार को जारी विज्ञप्ति के अुनसार चर्चा में दिल्ली पुलिस की साइबर अपराध शाखा के उपायुक्त्त अनीश रॉय ने कहा कि बिजनेस ई-मेल के माध्यम से सबसे अधिक धोखाधड़ी हो रही है और ऐसे में ऑटोमैटिक रिप्लाई के फीचर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के वरिष्ठ उपाध्यक्ष संजय अग्रवाल ने कहा किसाइबर अपराध और हैकिंग के मामलों में वृद्धि के बारेचिंताजनक है। इससे व्यापार और अन्य समूह कंपनियों में नुकसान हुआ है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।