अरुणाचल की दो लोकसभा सीटों पर कांग्रेस-भाजपा में होगा कड़ा मुकाबला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 26, 2019   17:42
अरुणाचल की दो लोकसभा सीटों पर कांग्रेस-भाजपा में होगा कड़ा मुकाबला

राज्य की दो लोकसभा सीटों- अरुणाचल पूर्व और अरुणाचल पश्चिम पर परंपरागत रूप से कांग्रेस पार्टी का कब्जा रहा है। राज्य में पहली बार वर्ष 1977 में आम चुनाव के बाद से दोनों सीटों पर पार्टी ने सात-सात बार जीत हासिल की है।

ईटानगर। अरुणाचल प्रदेश की दोनों लोकसभा सीटों को कांग्रेस का गढ़ माना जाता है, लेकिन भाजपा इस बार कड़ी चुनौती पेश कर सकती है। विश्लेषकों का मानना है कि दोनों सीटों पर 11 अप्रैल को होने वाले चुनाव में यहां कड़ा मुकाबला हो सकता है। राज्य की दो लोकसभा सीटों- अरुणाचल पूर्व और अरुणाचल पश्चिम पर परंपरागत रूप से कांग्रेस पार्टी का कब्जा रहा है। राज्य में पहली बार वर्ष 1977 में आम चुनाव के बाद से दोनों सीटों पर पार्टी ने सात-सात बार जीत हासिल की है। 

2004 में अरुणाचल पूर्व की सीट पर चुनाव में भाजपा जीती थी। वर्ष 2009 और 2014 के चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार निनोंग एरिंग ने जीत हासिल की थी। वर्ष 2014 में तपिर गाओ दूसरे स्थान पर रहे थे। विश्लेषकों का कहना है कि अरुणाचल पूर्व सीट पर भाजपा के तपिर गाओ और कांग्रेस के जेम्स लोवांगचा वांगलट के बीच कड़ा मुकाबला होने की संभावना है।

इसे भी पढ़ें: रिजर्व बैंक के गवर्नर की नियुक्ति से जुड़ी जानकारी साझा नहीं करेगी सरकार 

अरूणाचल पश्चिम सीट से भाजपा के मौजूदा सांसद और केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू तथा पूर्व मुख्यमंत्री नबाम तुकी एवं जनता दल (सेक्युलर) के उम्मीदवार जारजम एटे के बीच मुकाबला है। वर्ष 2014 में रिजीजू ने 41,738 वोट के अंतर से कांग्रेस के तकाम संजय को हराया था। अरुणाचल में लोकसभा और विधानसभा का चुनाव एक साथ 11 अप्रैल को होगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।