कांग्रेस ने गोवा के राज्यपाल से विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 17, 2018   18:28
कांग्रेस ने गोवा के राज्यपाल से विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग की

कांग्रेस ने राज्यपाल से विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर बीजेपी के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार का बहुमत साबित कराने की मांग की है। कांग्रेस का दावा है कि स्वास्थ्य कारणों के चलते मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की अनुपस्थिति की वजह से राज्य सरकार

पणजी। कांग्रेस ने राज्यपाल से विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर बीजेपी के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार का बहुमत साबित कराने की मांग की है। कांग्रेस का दावा है कि स्वास्थ्य कारणों के चलते मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की अनुपस्थिति की वजह से राज्य सरकार अव्यवस्थित हुई है। यहां पत्रकारों को संबोधित करते हुए कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि पार्टी संसद के आगामी शीतकालीन सत्र और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के सामने भी इस मुद्दे को उठाएगी। उन्होंने कहा कि हम शीतकालीन सत्र के दौरान बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व और राष्ट्रपति पर गोवा विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने लिए दबाव बनाएंगे।

सुरजेवाला ने कहा कि कि राज्यपाल और केंद्र की बीजेपी सरकार ने गोवा की जनता के साथ धोखा किया है। कांग्रेस ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और राज्यपाल मृदुला सिन्हा के समक्ष 40 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत होने का दावा पेश किया है। बीजेपी पर आरोप लगाते हुए सुरजेवाला ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की गैरमौजूदगी में कैबिनेट सलाहकार समिति का गठन करना संविधान के साथ खुलेआम धोखा है। राज्य की बीजेपी सरकार को गोवा फॉरवर्ड पार्टी और महाराष्ट्रवादी, गोमांतक पार्टी और तीन निर्दलीय विधायकों का समर्थन हासिल है जबकि कांग्रेस सबसे ज्यादा सीटें जीतने वाली पार्टी है। कांग्रेस कई बार मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की गैरमौजूगी में सरकार चलाने पर आपत्ति जता चुकी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।