अमित शाह के बयान पर कांग्रेस का पलटवार, प्रियंका गांधी बोलीं- महंगाई से लड़ना श्रीराम का दिखाया रास्ता

Jairam Ramesh
ANI
अंकित सिंह । Aug 05, 2022 9:32PM
अपने ट्वीट में जयराम रमेश ने लिखा कि आज महंगाई, बेरोजगारी और जीएसटी के खिलाफ कांग्रेस के लोकतांत्रिक और शांतिपूर्ण प्रदर्शन को बदनाम करने एवं इससे ध्यान भटकाने का गृह मंत्री ने घृणित प्रयास किया।

महंगाई, बेरोजगारी और कथित तौर पर ईडी द्वारा की जा रही कार्रवाई को लेकर आज कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ जबरदस्त तरीके से विरोध प्रदर्शन किया। आज के विरोध प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस के नेताओं ने काले कपड़े पहन रखे थे। दिल्ली में कांग्रेस का नेताओं को हिरासत में भी लिया गया था। इन सबके बीच गृह मंत्री अमित शाह ने बड़ा बयान देते हुए कांग्रेस के इस आंदोलन को राम मंदिर से जोड़ दिया है। दरअसल, आज ही के दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2020 में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन किया था। अमित शाह ने अपने बयान में कहा है कि कांग्रेस ने आज तुष्टीकरण की राजनीति की है और उसने काले कपड़े पहन कर एक छुपा संदेश देने की कोशिश की है। अब इसी को लेकर कांग्रेस की ओर से भी मंत्री अमित शाह पर पलटवार किया गया है। कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने साफ तौर पर कहा है कि अमित शाह ने कांग्रेस के शांतिपूर्ण प्रदर्शन को बदनाम करने का घृणित प्रयास किया है।

इसे भी पढ़ें: पीएम मोदी को तथागत रॉय ने दी सलाह, बोले- जनता को समझाएं कि ममता से कोई सेटिंग नहीं

अपने ट्वीट में जयराम रमेश ने लिखा कि आज महंगाई, बेरोजगारी और जीएसटी के खिलाफ कांग्रेस के लोकतांत्रिक और शांतिपूर्ण प्रदर्शन को बदनाम करने एवं इससे ध्यान भटकाने का गृह मंत्री ने घृणित प्रयास किया। उन्होंने दावा किया, सिर्फ बीमार मानसिकता के लोग ही ऐसे फर्जी तर्क दे सकते हैं। साफ है, आंदोलन से उठी आवाज सही जगह पहुंची है। वहीं प्रियंका गांधी ने श्री राम की स्तुति में कुछ ट्वीट किए। उन्होंने लिखा कि देशभर के गरीबों और मध्य वर्ग के ऊपर पड़ रही महँगाई की मार के खिलाफ लड़ना, जन अनुरागी भगवान राम का दिखाया रास्ता है। जो महँगाई बढ़ाकर दुर्बल जन को कष्ट देता है वह भगवान राम पर वार करता है। जो महंगाई के विरुद्ध आंदोलन करने वालों को मिथ्या वचन कहता है वह लोकनायक राम और भारत के जन का अपमान करता है।

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने लिखा कि सवाल महंगाई, GST, बेरोज़गारी पर और जवाब में फिर वही मंदिर-मस्जिद। लगता है जनता के सवाल साहिब के पाठ्यक्रम से बाहर के हैं। कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने लिखा कि अमित शाह अपना मानसिक संतुलन खो चुके हैं।  कोई अच्छे डाक्टर को दिखाइए।

इसे भी पढ़ें: 'तुष्टीकरण की राजनीति कर रही कांग्रेस', राम मंदिर का जिक्र कर अमित शाह ने पूछा- आज विरोध का कार्यक्रम क्यों?

आपको बता दें कि गृह मंत्री अमित शाह ने कांग्रेस के प्रदर्शन पर कहा कि एक जिम्मेदार पार्टी होने के नाते कानून का सहयोग देना चाहिए। वो (कांग्रेस) रोज प्रदर्शन करते हैं। मेरा मानना है कि कांग्रेस ने आज के विरोध प्रदर्शन से तुष्टीकरण की राजनीति को बढ़ाया है। आज ED ने आज किसी को तलब नहीं किया लेकिन फिर भी उन्होंने प्रदर्शन किया। शाह ने आगे कहा कि कांग्रेस ने आज के दिन काले कपड़े पहनकर विरोध प्रदर्शन किया जबकि आज ही के दिन PM ने राम जन्मभूमि का शिलान्यास किया था। कांग्रेस आज प्रदर्शन कर संदेश देना चाहते हैं कि वो राम जन्मभूमि के शिलान्यास का विरोध करते हैं और तुष्टीकरण की नीति को आगे बढ़ाना चाहते हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़