कांग्रेस और जद(एस) ने मैसूर नगर निगम पर भाजपा के नियंत्रण को रोकने के लिए मिलाया हाथ

Vote
सूत्रों ने बताया कि जद(एस) गठबंधन के लिए तब तैयार हुई जब कांग्रेस महापौर का पद छोड़ने को राजी हुई। कांग्रेस विधायक तनवीर सैत ने कहा कि कई दौर की चर्चा के बाद, हमने महापौर का पद जद(एस) को देने का फैसला किया।

बेंगलुरु। कांग्रेस और जद (एस) ने बुधवार को महापौर चुनाव के दौरान मैसूर नगर निगम पर भाजपा के नियंत्रण को रोकने के लिए हाथ मिला लिया। जद (एस) की रुकमिनी एम गौड़ा को नया महापौर चुना गया है जबकि कांग्रेस के अनवार बेग उप महापौर निर्वाचित हुए हैं। चुनाव से पहले जद(एस) ने किसी भी पार्टी से गठबंधन करने से इनकार कर दिया था और अपना उम्मीदवार उतार दिया था। निगम में किसी पार्टी के पास पूर्ण बहुत नहीं था लेकिन तीनों पार्टियों ने अपने उम्मीदवार उतार दिए थे, जिससे मुकाबला दिलचस्प हो गया था। भाजपा को सत्ता से बाहर रखने के लिए कांग्रेस और जद(एस) ने आखिरी समय में गठजोड़ करने का फैसला किया। 

इसे भी पढ़ें: सिद्धरमैया का दावा, भाजपा नहीं चाहती थी कि पुडुचेरी में कांग्रेस सरकार रहे 

सूत्रों ने बताया कि जद(एस) गठबंधन के लिए तब तैयार हुई जब कांग्रेस महापौर का पद छोड़ने को राजी हुई। कांग्रेस विधायक तनवीर सैत ने कहा कि कई दौर की चर्चा के बाद, हमने महापौर का पद जद(एस) को देने का फैसला किया। यह हमारी रणनीति का हिस्सा है ताकि भाजपा को सत्ता से दूर रखा जा सके।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़