कांग्रेस का सवाल, पूछा- क्या स्वामी चिन्मयानंद से योगी की साठगांठ है?

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 25, 2019   17:35
कांग्रेस का सवाल, पूछा- क्या स्वामी चिन्मयानंद से योगी की साठगांठ है?

चिन्मयानंद पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली 23 वर्षीय छात्रा को उनसे पांच करोड़ रूपये की रंगदारी मांगने के आरोप में विशेष जांच दल (एसआईटी) ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया।

नयी दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयांनद के खिलाफ बलात्कार का आरोप लगाने वाली लड़की की रंगदारी के आरोप में गिरफ्तारी के बाद कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार पर तीखा हमला बोला और सवाल किया कि क्या मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की चिन्मयानंद के साथ साठगांठ है। पार्टी प्रवक्ता राजीव त्यागी ने इस मामले में यह भी सवाल भी किया कि सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की बात करने वाले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत चिन्मयानंद के मामले में अब तक खामोश क्यों हैं? 

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश में जिस तरह से अपराधों की ज्वालामुखी फूट रही है वो चिंता का विषय है। जिस तरह से योगी सरकार अपराधियों को शरण दे रही है, वो और भी चिंता का विषय है। उत्तर प्रदेश में अपराधी भयमुक्त है। अपराधी अपराध करने के बाद सरकार की शरण में चले जाते हैं और पीड़ित भयभीत हो जाते हैं।’’त्यागी ने दावा किया, ‘‘पीड़िता को गिरफ्तार कर लिया गया तो चिन्मयांनद एसी कमरे में आराम फरमा रहे हैं।’’ उन्होंने सवाल किया, ‘‘चिन्मयानंद पर अब तक बलात्कार की धारा क्यों नहीं लगी? क्या योगी जी की चिन्मयांनद के साथ साठगांठ है? चिन्मयांनद के खिलाफ अब तब बलात्कार से संबंधित धारा क्यों नहीं लगाई गई है? चिन्मयानंद को भाजपा से कब बाहर निकाला जाएगा?’’

इसे भी पढ़ें: चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली लड़की गिरफ्तार, 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

चिन्मयानंद ने यह भी कहा, ‘‘हम इस मामले में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से भी सवाल करना चाहते हैं जो सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की बात करते हैं। वह इस मामले पर खामोश क्यों हैं?’’  गौरतलब है कि चिन्मयानंद पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली 23 वर्षीय छात्रा को उनसे पांच करोड़ रूपये की रंगदारी मांगने के आरोप में विशेष जांच दल (एसआईटी) ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया। उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।रंगदारी के मामले में तीन आरोपियों को पहले ही जेल भेजा जा चुका है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...