कांग्रेस का 'न्याय' अर्थव्यवस्था में नयी जान डालेगा: राहुल

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 19 2019 5:06PM
कांग्रेस का 'न्याय' अर्थव्यवस्था में नयी जान डालेगा: राहुल
Image Source: Google

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘‘हमने न्यूनतम आय योजना के तहत गरीबों को 72,000 रूपये देने का वादा किया, जो देश में गरीबों की आर्थिक हालत को बदल कर रख देगा।’’

बाजीपुरा। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि उनकी पार्टी की ‘न्यूनतम आय योजना’ (न्याय) अर्थव्यवस्था में नयी जान डालने में मदद करेगी औरदेश में रोजगार के अवसर पैदा करेगी, जो नोटबंदी और जीएसटी की मार झेल रही है। राहुल ने यहां एक चुनाव रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए ‘चौकीदार चोर है’, तंज कसा । उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे में कारोबारी अनिल अंबानी को 30,000 करोड़ रूपये दिए। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘‘हमने न्यूनतम आय योजना के तहत गरीबों को 72,000 रूपये देने का वादा किया, जो देश में गरीबों की आर्थिक हालत को बदल कर रख देगा।’’

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: PM देश से माफ़ी मांगे और प्रज्ञा पर कार्यवाही करें: कांग्रेस

उन्होंने कहा कि ‘न्याय’ लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस घोषणापत्र की एक मुख्य विशेषता है और यह योजना पार्टी में विचार-विमर्श के बाद तैयार की गई। उन्होंने कहा कि मोदी ने 2014 में लोगों को 15 लाख रुपये देने का झूठा वादा किया था लेकिन कांग्रेस 3. 60 लाख रुपये (पांच साल में कुल अनुमानित रकम) जरूर देगी। कांग्रेस अध्यक्ष ने 2016 के नोटबंदी के कदम का मजाक उड़ाते हुए कहा, ‘‘एक दिन, नरेंद्र मोदी ने यह घोषणा की कि 1000 और 500 के (पुराने) नोट चलन से बाहर कर दिए गए हैं क्योंकि वे मुझे ज्यादा कालाधन बनाने में मदद नहीं कर रहे हैं। इसलिए मैं 2000 रूपये के नोट लाऊंगा क्योंकि उसके जरिए हम और अधिक कालाधन जमा कर सकेंगे।’’

इसे भी पढ़ें: पार्टी में बदसलूकी से नाराज प्रियंका ने कांग्रेस को कहा अलविदा



राहुल ने जीएसटी लागू करने को लेकर मोदी सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि उसने ‘गब्बर सिंह टैक्स’ (जीएसटी) पेश किया। ये दोनों (नोटबंदी और जीएसटी) कदम देश के लिए जोरदार झटका थे। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद नकदी की तंगी के चलते आम आदमी ने सामान खरीदना बंद कर दिया, जिसके चलते वस्तुओं का उत्पादन करने वाली भारतीय कंपनियां बंद हो गईं। इसके चलते अभी देश में बेरोजगारी की दर 45 साल के अपने उच्चतम स्तर पर है। उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि, हमारी न्याय (योजना) अर्थव्यवस्था में नयी जान डालेगी और रोजगार के अधिक अवसर पैदा करेगी। न्याय के तहत लोगों के पास जाने वाला पैसा गरीबों को वस्तुएं खरीदने में मदद करेगा, जिससे कंपनियां फिर से चालू हो जाएंगी और लोगों को नौकरियां मिलेंगी।’’

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप