कांग्रेस ने फडणवीस से कहा, राजनीति करने के बदले महाराष्ट्र सरकार का समर्थन करें

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 22, 2021   16:57
कांग्रेस ने फडणवीस से कहा, राजनीति करने के बदले महाराष्ट्र सरकार का समर्थन करें

उन्होंने कहा कि कोविड -19 एक राष्ट्रीय आपदा है और इसके बाद भी महाराष्ट्र को केंद्र से दवाओं और चिकित्सा उपकरणों की खरीद के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। पटोले ने कहा कि महाराष्ट्र को प्रतिदिन 50,000 रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरूरत है और केंद्र ने प्रति दिन केवल 26,000 शीशियों का ही आवंटन किया है। उन्होंने कहा ऐसा पूर्वाग्रह अच्छी बात नहीं हैं।

मुंबई। महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख नाना पटोले ने बृहस्पतिवार को विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस से कहा कि वह अभी राजनीतिक मतभेदों को दूर रखकर कोविड की मौजूदा खतरनाक स्थिति से मुकाबला करने के लिए राज्य सरकार के प्रयासों का समर्थन करे। उनकी पार्टी राज्य की गठबंधन सरकार में शिवसेना और राकांपा के साथ भागीदार है। उन्होंने एक बयान में कहा कि अभी समय की मांग यह गौर करने की है कि किस प्रकार आम लोगों के जीवन को बचाया जा सकता है तथा कोविड मरीजों को किस प्रकार रेमडेसिविर तथा ऑक्सीजन आदि की आपूर्ति की जा सकती है।

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया, ‘‘राज्य को पर्याप्त चिकित्सा सहायता सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार के साथ समन्वय करने के बदले, फडणवीस और राज्य के अन्य भाजपा नेता केवल प्रदेश सरकार को परेशान करने के लिए काम करना चाहते हैं।’ पटोले ने कहा कि फडणवीस और अन्य भाजपा नेताओं को गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार करने के बदले केंद्र में महाराष्ट्र की आवाज बनना चाहिए। उन्होंने फडणवीस से राजनीतिक मतभेदों को अलग रखने और राज्य के लिए अपनी प्रतिबद्धता प्रदर्शित करने को कहा। उन्होंने कहा कि कोविड -19 एक राष्ट्रीय आपदा है और इसके बाद भी महाराष्ट्र को केंद्र से दवाओं और चिकित्सा उपकरणों की खरीद के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। पटोले ने कहा कि महाराष्ट्र को प्रतिदिन 50,000 रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरूरत है और केंद्र ने प्रति दिन केवल 26,000 शीशियों का ही आवंटन किया है। उन्होंने कहा ऐसा पूर्वाग्रह अच्छी बात नहीं हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।