भाजपा का मुकाबला करने के लिए नयी कल्पना वाली कांग्रेस की जरूरत: शशि थरूर

Shashi Tharoor
ANI
थरूर ने अपने प्रतिद्वंद्वी मल्लिकार्जुन खड़गे से बहस की पैरवी करने के बाद यह भी वह खड़गे की इस बात से सहमत हैं कि दोनों को एक-दूसरे से नहीं, बल्कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से लड़ना है।
नयी दिल्ली/हैदराबाद। कांग्रेस अध्यक्ष पद के उम्मीदवार शशि थरूर ने सोमवार को पार्टी के डेलीगेट (निर्वाचक मंडल के सदस्यों) से अपना समर्थन करने की अपील करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी का मुकाबला करने के लिए जरूरी है है कि नयी कल्पना वाली कांग्रेस हो। थरूर ने अपने प्रतिद्वंद्वी मल्लिकार्जुन खड़गे से बहस की पैरवी करने के बाद यह भी वह खड़गे की इस बात से सहमत हैं कि दोनों को एक-दूसरे से नहीं, बल्कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से लड़ना है। उन्होंने ट्वीट किया, मैं खड़गे जी से सहमत हूं कि कांग्रेस में हम सभी लोगों को एक दूसरे की बजाय भाजपा से मुकाबला करना है। हमारे बीच कोई वैचारिक मतभेद नहीं है। लोकसभा सदस्य थरूर ने कहा, 17 अक्टूबर को मतदान करने वाले हमारे साथियों को सिर्फ यह तय करना है कि इसे (भाजपा के खिलाफ लड़ाई) कैसे सर्वाधिक प्रभावी ढंग से किया जा सकता है। थरूर ने रविवार को कहा था कि वह मल्लिकार्जुन खड़गे के साथ सार्वजनिक बहस के लिए तैयार हैं, क्योंकि इससे लोगों की पार्टी में उसी तरह से दिलचस्पी पैदा होगी, जैसे कि हाल में ब्रिटेन में कंजरवेटिव पार्टी के नेतृत्व पद के चुनाव को लेकर हुई थी। उनकी इस टिप्पणी पर खड़गे ने कहा था कि उन्हें और थरूर को भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के खिलाफ मिलकर लड़ना है। 

इसे भी पढ़ें: सरकार की देश में 5 जी प्रौद्योगिकी के वास्ते 100 प्रयोगशालाएं स्थापित करने की योजना: वैष्णव

खड़गे का यह भी कहना था कि उन्हें और थरूर को महंगाई तथा बेरोजगारी जैसे मुद्दों के साथ ही भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की विचारधारा के खिलाफ मिलकर काम करना है। चुनाव प्रचार के लिए हैदराबाद पहुंचे थरूर ने कहा कि वह खड़गे का बहुत सम्मान करते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ मेरा मानना है कि हमें नयी तरह की और नयी कल्पना वाली कांग्रेस की जरूरत है ताकि भाजपा का मुकाबला किया जा सके। इसलिए मैंने इस चुनाव में अपनी उम्मीदवारी को आगे बढ़ाया है।’’ थरूर का कहना था, ‘‘हम चाहते हैं कि हमारे देश में कांग्रेस एक बार फिर जीते। जहां तक मेरा सवाल है तो इस चुनाव में सिर्फ इसी बात को लेकर अंतर है कि हम कांग्रेस पार्टी के सामने मौजूद चुनौतियों से कैसे निपटते हैं ताकि भाजपा और उसकी मजबूत चुनावी मशीनरी से पार पा सकें।’’ उनके अनुसार, इस चुनावी मुकाबले में उनके और खड़गे के बीच कोई कलह नहीं है। उन्होंने कहा कि खड़गे के पास व्यापक अनुभव, योग्यता और ज्ञान है। थरूर ने यह भी कहा, ‘‘मेरा रवैया अलग है और मैं इसे मतदाताओं के समक्ष रख रहा हूं। हम सब एकजुट हैं।’’ 

इसे भी पढ़ें: यूपी में कांग्रेस के नये अध्यक्ष खुद अपना चुनाव दो बार से हार रहे हैं, वह पार्टी को कैसे खड़ा कर पाएंगे?

उनके मुताबिक, दोनों उम्मीदवारों में से कोई भी जीते, लेकिन यह कांग्रेस की सबसे बड़ी जीत होगी तथा वह अपना नामांकन वापस नहीं लेंगे। थरूर का कहना था कि उनके प्रचार में लोगों की अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है तथा आगे वह मुंबई, चेन्नई और देश के कई अन्य हिस्सों में जाएंगे। उन्होंने बुधवार को सभी डेलीगेट का फोन नंबर मिल जाएगा तो वह उनसे संपर्क करेंगे। पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने हैदराबाद में उनसे मुलाकात की। थरूर ने सोमवार को यह भी कहा कि उन्होंने पिछले महीने ही पार्टी से संबद्ध संगठन ‘अखिल भारतीय प्रोफेशनल्स कांग्रेस’ के प्रमुख के पद से इस्तीफा दिया है। माना जा रहा है कि पार्टी में ‘एक व्यक्ति, एक पद’ के सिद्धांत के तहत उन्होंने यह जिम्मेदारी छोड़ी है। खड़गे और थरूर कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में उम्मीदवार हैं। यदि पार्टी के इन दोनों नेताओं में से कोई भी अपना नामांकन वापस नहीं लेता है, तो 17 अक्टूबर को मतदान होगा, जिसमें 9,000 से अधिक डेलीगेट (निर्वाचक मंडल के सदस्य) मतदान करेंगे। मतगणना 19 अक्टूबर को होगी। वैसे थरूर ने स्पष्ट कर दिया है कि वह चुनाव लड़ेंगे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़