नक्शे पर मुहर लगते ही शुरू हो जाएगा राम मंदिर का निर्माण कार्य, तैयारियां पूरी

नक्शे पर मुहर लगते ही शुरू हो जाएगा राम मंदिर का निर्माण कार्य, तैयारियां पूरी

मंदिर के आकार में वृद्धि का कारण यह भी रहा कि पहले की तुलना में अब जमीन को बढ़ा दिया गया है। मंदिर में सिंहद्वार, नृत्य मंडप और रंग मंडप भी बनेंगे। श्रद्धालुओं के बैठने और विधिवत पूजा करने की भी व्यवस्था की गई है।

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की तैयारियां अब अपने अंतिम चरण पर है। श्री राम जन्मभूमि मंदिर ट्रस्ट ने मंदिर परिसर में 70 एकड़ का नक्शा पास कराने के लिए तैयारियां पूरी कर ली है। माना जा रहा है कि संबंधित विभागों से भी संपर्क किया जा रहा है और एनओसी ली जा रही है। यह भी कहा जा रहा है कि सभी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद अयोध्या में भव्य राम मंदिर का नक्शा अब से 24 घंटे के अंदर पास हो सकता है। अयोध्या विकास प्राधिकरण का कहना है कि मंदिर के नक्शे के अनुसार ही इसका विकास शुल्क होगा। नियमों के मुताबिक ट्रस्ट चाहे तो पूरे 70 एकड़ का विकास शुल्क जमा करके नक्शा पास करा सकता है। सूत्रों की माने तो मंदिर ट्रस्ट अपनी सुविधा के अनुसार भवन निर्माण की शुरुआत करवा सकता है। फिलहाल वह प्लान और लेआउट पर 8 विभागों से एनओसी ले रहा है जिसमें फायर, वन विभाग, एयरपोर्ट, अथॉरिटी नगर निगम जैसे विभाग शामिल है। नक्शा पास होने के बाद इसे जारी करने में 3 दिन का समय लग सकता है।

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर निर्माण को लेकर स्वरा भास्कर ने उगला था जहर! उठाए थे कोर्ट पर सवाल,अब होगी कार्यवाही ?

आपको बता दें कि राम मंदिर निर्माण को लेकर यह कहा जा रहा है कि इसकी नींव 25 फीट नीचे होगी। मंदिर का निर्माण वास्तु शास्त्र के हिसाब से किया जाएगा। अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के साथ ही कई रोजगार के अवसर खोलने पर भी कार्य किए जा रहे है। यह भी कहा जा रहा है कि श्री राम जन्मभूमि पर राम लला का भव्य मंदिर के निर्माण कार्य शुरू होने के साथ ही आसपास के मंदिरों के कपाट भी खुल जाएंगे। पहले रामलला के मंदिर के लिए विश्व हिंदू परिषद का पुराना मॉडल हम सबके सामने था। इसे चंद्रकांत सोमपुरा ने तैयार किया था। फिलहाल पुराने डिजाइन को बदला गया है। इस बदलाव के कारण अब मंदिर की ऊंचाई, आकार, क्षेत्रफल और बुनियादी संरक्षण में काफी परिवर्तन देखने को मिलेगा। सबसे पहले हम आपको यह बता दें कि यह मंदिर 3 मंजिला इमारत होगा जिसे वास्तु शास्त्र के हिसाब से बनाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर पर नहीं होगा भूकंप, तूफान का असर, सहयोग के लिए 10 करोड़ परिवारों तक जाएगा संघ

इस मंदिर में रामलला का गर्भ गृह बनेगा। उसी के ऊपर मुख्य शिखर बनाया जाएगा। पहले की तुलना में इस बार राम मंदिर की ऊंचाई में 33 फीट की वृद्धि की गई है। यही कारण है कि पहले की तुलना में अब इमारत में एक और मंजिल को बढ़ाना पड़ा है। पुराने मॉडल के हिसाब से मंदिर की लंबाई 268 फीट 5 इंच थी। अब इसे बढ़ाकर 280 से 300 फीट किया गया है। मंदिर की ऊंचाई को बढ़ाकर 161 फुट किया गया है। मंदिर के गुंबदों की संख्या 3 से बढ़ाकर पांच कर दी गई है। मंदिर के आकार में वृद्धि का कारण यह भी रहा कि पहले की तुलना में अब जमीन को बढ़ा दिया गया है। मंदिर में सिंहद्वार, नृत्य मंडप और रंग मंडप भी बनेंगे। श्रद्धालुओं के बैठने और विधिवत पूजा करने की भी व्यवस्था की गई है।

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर के बारे में सोशल मीडिया पर विवादित पोस्ट डालने के आरोप में युवक गिरफ्तार

इसके साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि मिट्टी के आधार पर नींव की खुदाई 20 से 25 फीट गहरी की जा सकती है। नए मॉडल के तहत राम मंदिर में कुल 318 स्तंभ होंगे। मंदिर के प्रत्येक तल पर 106 स्तंभ बनाए जाएंगे। मंदिर का निर्माण इस हिसाब से किया जाएगा कि एक बार में करीब 10 से 12 हजार लोग दर्शन कर सकेंगे। भूतल का क्षेत्र और भी बड़ा होगा। पहले तल पर जहां राम दरबार होगा वहां चार से पांच हजार श्रद्धालु एक बार में दर्शन कर सकेंगे। मंदिर को भव्य बनाने के लिए पूरी तरीके से व्यवस्थाएं की जा रही है। मंदिर के आसपास क्या होगा इसका निर्णय ट्रस्ट करेगा। कॉरिडोर, संग्रहालय तथा तमाम तरह की पेंटिंग्स भी पूरे मंदिर में दिखाई दे सकती है। संक्षेप में बात करें तो मंदिर की लंबाई 360 फुट होगी, चौड़ाई 235 फुट, ऊंचाई 161 फुट, मंडपों की संख्या 5 होगी,  पिलर की कुल संख्या 360 होगी, 6 से 8000 श्रद्धालु भूतल पर दर्शन कर सकेंगे वहीं 4 से 5000 श्रद्धालु पहले तल पर दर्शन कर सकेंगे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।