बेदी के खिलाफ जल्द ही दायर करूंगा अदालत की अवमानना की याचिका: नारायणसामी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 1, 2019   17:07
बेदी के खिलाफ जल्द ही दायर करूंगा अदालत की अवमानना की याचिका: नारायणसामी

पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने कहा कि बेदी इस साल 30 अप्रैल को मद्रास उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद कई कल्याणकारी योजनाओं को रोक रही हैं।

पुडुचेरी। पुडुचेरी के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वी. नारायणसामी ने रविवार को कहा कि वह निर्वाचित सरकार के फैसलों को लागू करने में लगातार कथित तौर पर बाधा डालने के लिए केंद्र शासित प्रदेश की उपराज्यपाल किरण बेदी के खिलाफ अदालत की अवमानना की याचिका दायर करेंगे।

इसे भी पढ़ें: नारायणसामी ने LG को कहा राक्षसी, किरण बेदी बोलीं- टिप्पणी असंसदीय और असभ्य

उन्होंने यहां अपने आवास पर पत्रकारों से कहा कि बेदी इस साल 30 अप्रैल को मद्रास उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद कई कल्याणकारी योजनाओं को रोक रही हैं। उच्च न्यायालय ने कहा था कि बेदी को सरकार के कामकाज में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। अदालत ने मुख्यमंत्री के संसदीय सचिव द्वारा दायर याचिका में यह आदेश दिया था। याचिका में बेदी को हस्तक्षेप करने से रोकने का अनुरोध किया गया था।

नारायणसामी ने कहा कि उन्होंने केंद्र शासित प्रदेश के लिए निर्वाचन आयुक्त के तौर पर एक अधिकारी को नियुक्त करने का फैसला किया था लेकिन बेदी ने इस फैसले पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा, ‘‘वह (बेदी) प्रशासकीय प्रक्रियाओं के बारे में भी नहीं जानती है और प्रदेश के मंत्रिमंडल के हर फैसले को नकारती रही हैं।’’

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने पुडुचेरी की कामराज विधानसभा सीट बरकरार रखी

उन्होंने कहा कि वह यहां सरकार के दैनिक कामकाज में हस्तक्षेप के लिए बेदी के खिलाफ अदालत की अवमानना की याचिका दायर करेंगे। नारायणसामी ने आरोप लगाया कि केंद्र यहां जीएसटी लागू करने से हुए नुकसान के लिए अगस्त से बकाया 400 करोड़ रुपये का मुआवजा देने में देरी कर रहा है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।