कोरोना संकट: महाराष्ट्र, गुजरात, तेलंगाना का दौरा करेगी केंद्रीय टीम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 25, 2020   17:39
कोरोना संकट: महाराष्ट्र, गुजरात, तेलंगाना का दौरा करेगी केंद्रीय टीम

देश भर में सुविधाओं को बढ़ाने के प्रयासों के बादकुल 1,007 ​​प्रयोगशालाएं काम कर रही हैं जिनमें से 734 सरकारी क्षेत्र में हैं और 273 निजी हैं। जनवरी में कोविड-19 के सीमित परीक्षण हो रहे थे और 24 जून तक कुल 75,60,782 नमूनों का परीक्षण किया गया।

नयी दिल्ली। स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल के नेतृत्व में एक केंद्रीय टीम 26 से 29 जून के बीच गुजरात, महाराष्ट्र और तेलंगाना का दौरा करेगी तथा उन राज्यों में कोविड-19 प्रबंधन प्रयासों को मजबूत बनाने के लिए वहां के अधिकारियों के साथ समन्वय करेगी। मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों के अनुसार, टीम कोरोना वायरस पर काबू के लिए राज्यों द्वारा किए गए उपायों की भी समीक्षा करेगी। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र में सबसे अधिक 1,42,900 मामले दर्ज किए गए हैं।

गुजरात में 28,943 मामले और तेलंगाना में 10,331 मामले सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि भारत में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस के मामलों में सबसे ज्यादा वृद्धि दर्ज की गयी और 16,000 से अधिक मामले सामने आए। इसके साथ ही कुल मामले बढ़कर 4.73 लाख तक पहुंच गए। साथ ही मृतकों की संख्या में भी 418 की वृद्धि हुयी। मंत्रालय ने कहा कि भारत में प्रति एक लाख की आबादी पर 33.39 कोविड-19 मामले हैं जबकि वैश्विक औसत 114.67 है। इसके साथ ही, देश में प्रति लाख जनसंख्या पर मृतकों की संख्या 1.06 है जो दुनिया में सबसे कम है और वैश्विक औसत 6.24 है। 

इसे भी पढ़ें: योगी का निर्देश, पूरी क्षमता से कार्य करें सभी जांच प्रयोगशालाएं

देश भर में सुविधाओं को बढ़ाने के प्रयासों के बादकुल 1,007 ​​प्रयोगशालाएं काम कर रही हैं जिनमें से 734 सरकारी क्षेत्र में हैं और 273 निजी हैं। जनवरी में कोविड-19 के सीमित परीक्षण हो रहे थे और 24 जून तक कुल 75,60,782 नमूनों का परीक्षण किया गया। बुधवार को 2,07,871 नमूनों का परीक्षण किया गया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।