इंदौर में चरम पर पहुंच रहा कोरोना संक्रमण, एक ही दिन में रिकॉर्ड 265 नये मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 25, 2020   13:58
इंदौर में चरम पर पहुंच रहा कोरोना संक्रमण, एक ही दिन में रिकॉर्ड 265 नये मामले

सरकारी आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि जिले में अगस्त में कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार सबसे तेज है। जिले में एक अगस्त से 24 अगस्त के बीच 4,225 नये संक्रमित मिले हैं। यह आंकड़ा जिले में पिछले पांच महीने के दौरान मिले महामारी के कुल 11,673 मरीजों का करीब 36 फीसद है।

इंदौर (मध्य प्रदेश)। देश में कोविड-19 से सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में शामिल इंदौर में महामारी का प्रकोप इस महीने अपने चरम पर पहुंचता दिखायी दे रहा है। खासकर गहन चिकित्सा इकाइयों (आईसीयू) पर बढ़ते दबाव के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग अस्पतालों में गंभीर मरीजों के इलाज के लिये सुविधाएं बढ़ा रहा है। अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि जिले में पिछले 24 घंटों के दौरान 265 नये मामले मिलने के बाद कोविड-19 के मरीजों की कुल तादाद बढ़कर 11,673 हो गयी है। यह जिले में महामारी के पिछले पांच महीने से जारी प्रकोप के दौरान एक ही दिन में मिले संक्रमितों की अब तक की सर्वाधिक तादाद है।

उन्होंने यह भी बताया कि पिछले पांच दिन में स्थानीय अस्पतालों के कोविड-19 वॉर्डों में भर्ती चार और मरीजों की मौत हो गयी। इसके बाद जिले में कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में आकर मरने वाले लोगों की कुल तादाद बढ़कर 368 पर पहुंच चुकी है। सरकारी आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि जिले में अगस्त में कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार सबसे तेज है। जिले में एक अगस्त से 24 अगस्त के बीच 4,225 नये संक्रमित मिले हैं। यह आंकड़ा जिले में पिछले पांच महीने के दौरान मिले महामारी के कुल 11,673 मरीजों का करीब 36 फीसद है। इस बीच, कोविड-19 की रोकथाम के लिये जिले के नोडल अधिकारी अमित मालाकार ने बताया, फिलहाल जिले में कोविड-19 के 3,217 मरीजों का इलाज चल रहा है। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना संकट के कारण बढ़ रहे हैं तनाव के मामले, 1,300 से अधिक लोगों ने मांगी मदद

इनमें से स्थानीय अस्पतालों के कोविड-19 वॉर्डों में करीब 2,500 मरीज भर्ती हैं, जबकि अन्य मरीजों को गृह पृथक-वास (होम आइसोलेशन) में रखकर उनका इलाज किया जा रहा है। उन्होंने बताया, मौजूदा हालात के मद्देनजर हम कोविड-19 के मरीजों के लिये अस्पतालों में 175 और बिस्तरों की व्यवस्था कर रहे हैं। इनमें से अधिकांश बिस्तर गहन चिकित्सा इकाइयों (आईसीयू) और उच्च निर्भरता इकाइयों (एचडीयू) में होंगे। मालाकार ने बताया कि जिले में अब तक कुल 8,088 लोग इलाज के बाद कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। जिले में कोविड-19 के प्रकोप की शुरूआत 24 मार्च से हुई, जब पहले चार मरीजों में इस महामारी की पुष्टि हुई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।