केंद्र के हस्तक्षेप के बाद दिल्ली में कोराना की स्थिति में सुधार: दिल्ली भाजपा प्रमुख

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 29, 2020   09:55
केंद्र के हस्तक्षेप के बाद दिल्ली में कोराना की स्थिति में सुधार: दिल्ली भाजपा प्रमुख

केजरीवाल सरकार ने लोगों को उनके हाल पर छोड़ दिया और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को दिल्ली की कमान संभालनी पड़ी और लोगों को उचित स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराई गईं।

नयी दिल्ली। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने रविवार को कहा कि अरविंद केजरीवाल सरकार दिल्ली में कोविड-19 महामारी को नहीं संभाल पाई, इसलिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को लोगों को उचित स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए दिल्ली की कमान संभालनी पड़ी। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के हस्तक्षेप के बाद दिल्ली में कोविड-19 की स्थिति में सुधार हुआ है। उन्होंने मुख्यमंत्री केजरीवाल पर उनके उस बयान को लेकर निशाना साधा कि जून में दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमित लोगों के लिए बिस्तरों की ‘‘कमी’’ के कारण मृत्यु दर बढ़ गई।

केजरीवाल ने शनिवार को एक डिजिटल ब्रीफिंग में स्वीकार किया कि जून के पहले सप्ताह में कोविड-19 रोगियों के लिए बिस्तरों की कमी के कारण मौत के आंकड़े बढ़ गए। हालांकि, उन्होंने कहा था कि पिछले एक महीने में उनकी सरकार ने बिस्तर की संख्या में काफी वृद्धि की और वर्तमान में इसकी कोई कमी नहीं है। मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए, दिल्ली भाजपा प्रमुख ने कहा, ‘‘केजरीवाल शुरु से ही कहते थे कि उन्होंने कोविड-19 रोगियों के लिए 30,000 बिस्तरों की व्यवस्था की है, लेकिन जब रोगियों को बिस्तरों की जरूरत पड़ी, तो वे बिस्तर अदृश्य हो गए।’’ 

इसे भी पढ़ें: गहलोत ने पीएम पर साधा निशाना, कहा- वस्तुस्थिति बताने में क्यों कर रहे हैं संकोंच?

गुप्ता ने कहा, ‘‘केजरीवाल सरकार ने लोगों को उनके हाल पर छोड़ दिया और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को दिल्ली की कमान संभालनी पड़ी और लोगों को उचित स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराई गईं।’’ उन्होंने दावा किया कि मोदी सरकार के हस्तक्षेप से दिल्ली में कोरोना वायरस की स्थिति में सुधार हुआ है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।