कॉरपोरेट कर में कटौती भारतीय बाजार को अधिक आकर्षक बनायेंगे: अमित शाह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 20, 2019   17:31
कॉरपोरेट कर में कटौती भारतीय बाजार को अधिक आकर्षक बनायेंगे: अमित शाह

सरकार ने आर्थिक वृद्धि दर को गति देने के लिये बड़ी घोषणा करते हुए शुक्रवार को कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर घटा दी। अब घरेलू कंपनियों के लिये सभी अधिशेषों और उपकर समेत कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर 25.17 प्रतिशत होगी।

नयी दिल्ली। भाजपा अध्यक्ष एवं गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को कॉरपोरेट कर की दरें कम किए जाने का स्वागत करते हुए कहा कि मोदी सरकार भारत को बड़ा विनिर्माण केंद्र बनाने के लिए प्रतिबद्ध है और इन फैसलों से भारतीय बाजार संभावित निवेशकों के लिये अधिक आकर्षक बनेंगे। अमित शाह ने अपने ट्वीट में कहा कि मोदी सरकार भारत को बड़ा विनिर्माण केंद्र बनाने के लिए प्रतिबद्ध है और पूर्व के एफडीआई राहत संबंधी फैसलों के साथ यह निर्णय इस उद्देश्य को हासिल करने में महत्वपूर्ण साबित होगा।

उन्होंने कहा, ‘‘ मैं इन साहसिक फैसलों की घोषणा के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को बधाई देता हूं।’’ भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ‘‘कारपोरेट कर को व्यवहारिक बनाने की मांग लम्बे समय से प्रतिक्षित थी और यह अब हकीकत बन गई है। इस कदम से हमारे कारपोरेट वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनेंगे और हमारे बाजार संभावित निवेशकों के लिये अधिक आकर्षक बनेंगे। ’’

इसे भी पढ़ें: निर्मला के मिनी बजट से मंदी भागी दूर, निवेश और रोजगार आयेगा भरपूर

गौरतलब है कि सरकार ने आर्थिक वृद्धि दर को गति देने के लिये बड़ी घोषणा करते हुए शुक्रवार को कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर घटा दी। अब घरेलू कंपनियों के लिये सभी अधिशेषों और उपकर समेत कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर 25.17 प्रतिशत होगी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि नयी दर इस वित्त वर्ष के एक अप्रैल से प्रभावी होगी। दर कम करने तथा अन्य घोषणाओं से राजस्व में सालाना 1.45 लाख करोड़ रुपये की कमी का अनुमान है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।